आपको 2017 में डोकलाम विवाद (Doklam issue between India and China) तो याद होगा, जिसमें भारत और चीनी सेनाएं आमने-सामने आ गई थीं। सिक्किम (Sikkim) के पास डोकलाम में चीन और भूटान (Bhutan) के बीच सीमा को लेकर विवाद चल रहा था। इस विवाद में भारत भी कूद गया था और डोकलाम को भूटान का हिस्सा बताया था। अब खबर है कि चीन और भूटान ने एक समझौते पर डील कर ली है। जिसके जरिए वो यह विवाद को सुलझाएंगे।

क्या था मामला

भूटान (Bhutan) ने डोकलाम (Doklam) में चीन की ओर से बनाई जा रही सड़क का विरोध किया था। इसके समर्थन में भारत भी खुलकर आ गया था। भूटान और चीन के बीच विवाद की वजह से भारत के साथ भी तनातनी की स्थिति उत्पन्न हो गई थी। डोकलाम ट्राई जंक्शन पर भारत और चीन की सेनाएं 73 दिन आमने-सामने रही थीं। भूटान ने चीन पर उस क्षेत्र में एक सड़क का विस्तार करने का आरोप लगाया था जो उसका एरिया है। डोकलाम को लेकर एक समय तनाव इतना बढ़ गया कि दो परमाणु संपन्न पड़ोसियों के बीच युद्ध की आशंका बढ़ गई थी। भारत-चीन के बीच कई दौर की वार्ता के बाद यह गतिरोध कम हो सका था।

अब भूटान और चीन ने सीमा विवाद (Bhutan-china border dispute) सुलझाने के लिए बातचीत में तेजी लाने के लिए तीन चरण के रोडमैप पर हस्ताक्षर किए हैं। भूटान के विदेश मंत्रालय ने बयान जारी कर कहा कि विदेश मंत्री एल टांडी दोर्जी और चीन के उपविदेश मंत्री ने गुरुवार को सीमा को लेकर बातचीत के लिए तीन चरण वाले रोडमैप को लेकर समझौते पर हस्ताक्षर किए हैं।