सिक्किम के मुख्यमंत्री प्रेम सिंह तामांग (गोले) (Sikkim Chief Minister Prem Singh Tamang) ने राष्ट्रीय शिक्षा दिवस (national education day) के अवसर पर सिक्किमी नागरिकों को हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएं दी है। शिक्षा दिवस के पूर्व संध्या में एक संदेश जारी करते हुए मुख्यमंत्री गोले (CM Gole) ने कहा है कि यह मौलाना अब्दुल कलाम आजाद की जयंती है, जिन्होंने साल 1947 से 1958 तक पहले शिक्षा मंत्री के रूप में काम किया।

उन्होंने संदेश में उल्लेख किया है कि मौलाना आजाद एक स्वतंत्रता सेनानी और सुधारक थे जो शिक्षा के माध्यम से राष्ट्र विकास के लिए प्रतिबद्ध थे। शिक्षा क्षेत्र राज्य सरकार के प्राथमिकता वाले क्षेत्रों में से एक है और हमने राज्य में प्रदान की जा रही बुनियादी सुविधा और शिक्षा की गुणवत्ता में सुधार पर ध्यान केंद्रित किया है।

हमारी सरकार ने सिक्किम में उच्च शिक्षा (higher education in sikkim) के स्तर को बढ़ाने के लिए विश्वविद्यालय और कॉलेजों की स्थापना की पहल की है। हम अने विद्यार्थियों के मजबूत नींव बनाने में सहयोग करने की खातिर प्राथमिक स्तर पर सर्वोत्तम सुविधाएं प्रदान करने पर ध्यान केंद्रित कर रहे है।

उन्होंने आगे कहा है कि हाल ही में स्कूल और शैक्षणिक संस्थानों ने कोविड-19 के कारण लंबे अंतराल के बाद कक्षा संचालन शुरु की है। जैसे हम धीरे-धीरे महामारी के प्रभाव से उतरेंगे, हम शिक्षा क्षेत्र को और बढ़ाने और अपने स्कूल और कॉलेजों में सर्वोत्तम सुविधाएं प्रदान करने के लिए अपनी योजनाओं की शुरुआत करेंगे। मुख्यमंत्री गोले (CM Gole) ने इस दिन पर शिक्षा विभाग के अधिकारी और कर्मचारी, शिक्षण संकाय, विद्यार्थी और शैक्षणिक संस्थानों से जुड़ी समितियों को बधाई और शुभकामनाएं दी है।