बीजिंग। भारत पर नजर रखने के मकसद से चीन ने एक बड़ी चाल चली है। चीन की तरफ से जो जानकारी दी गई है, उसके मुताबिक उसके कब्‍जे वाले तिब्‍बत में उसने गनबाला रडार स्‍टेशन को ऑपरेट करना शुरू कर दिया है। अभी तक दुनिया का सबसे ऊंचा रडार स्‍टेशन मैन्‍युली ऑपरेट किया जा रहा था लेकिन अब इसे रिमोट से ऑपरेट किया जाएगा। कुछ समय पहले तक यहां पर कुछ सैनिकों को तैनात किया गया था लेकिन अब ऐसा नहीं होगा। इसके अलावा उसने ऊंचाई वाले इलाकों में नई रडार भी इंस्‍टॉल कर डाली हैं। साथ ही अब पीपुल्‍स लिब्रेशन आर्मी (PLA) के सैनिक नई ड्यूटी स्‍टाइल में आ गए हैं। गनबाला वह जगह है जो भारतीय राज्‍य सिक्किम के एकदम करीब है।

राज्यपाल बीडी मिश्रा ने वास्तविक नियंत्रण रेखा पर तैनात सशस्त्र बलों से मुलाकात की

पीएलए डेली की एक नई रिपोर्ट के मुताबिक गनबाला रडार स्‍टेशन को 3000 मीटर की ऊंचाई से कंट्रोल किया जाएगा। खास बात है कि इसे ऑफिसर्स रिमोट से कंट्रोल करेंगे। अक्‍टूबर 2022 में चीन में हुई राष्‍ट्रीय कांग्रेस में इस नई तैनाती और नए स्‍टेशन की जरूरत के बारे में एक प्रस्‍ताव रखा गया था। इसमें कहा गया था कि नए इलाकों में नई क्‍वालिटी वाली युद्धक सेनाओं के अनुपात में इजाफा हो रहा है। ऐसे में बुद्धिमान युद्धक सेनाओं की तैनाती में तेजी लानी होगी।

पीएलए डेली के मुताबिक वेस्‍टर्न थियेटर के तहत वायुसेना ने इस काम को पूरा कर लिया है। गनबाला रडार स्‍टेशन कई और रडार स्‍टेशनों में एक अहम मिलिट्री बेस है जो दक्षिणी तिब्‍बत को कवर करता है। यह स्‍टेशन तिब्‍बत की सबसे ऊंची चोटी पर स्थित है। इस स्‍टेशन के बारे में अक्‍सर चीनी मीडिया में खबरें आती रहती हैं।

इस स्‍टेशन की रणनीतिक अहमियत, इसकी ऊंचाई की वजह से काफी ज्‍यादा है। इस स्‍टेशन का निर्माण सन् 1967 में हुआ था। इस स्‍टेशन को चीन काफी अहम इसलिए भी मानता है क्‍योंकि यहां से वह पूरे दक्षिणी तिब्‍बत के आसपास के हवाई क्षेत्र पर नजर रख सकता है। इस रडार स्‍टेशन को दुनिया का सबसे ऊंचा मिलिट्री एयरबेस बताया जा रहा है।

एक निजी कंपनी की तरह काम करती है ममता बनर्जी की पार्टी टीएमसी


5374 मीटर पर स्थित रडार स्‍टेशन चीनी सेना के लिए काफी महत्‍वपूर्ण है।पीएलए डेली की मानें तो रक्षा नीति में यह एक बड़ा बदलाव है। पीएलए डेली के मुताबिक रडार स्‍टेशन मिलिट्री स्‍टाफ का सबसे बड़ा सपोर्ट सिस्‍टम है। यहां पर तैनात स्‍टाफ पूरे इलाके पर नजर रखने के मकसद से पहले ही ज्‍वॉइन्‍ट ट्रेनिंग कर चुका है।

पिछले कुछ सालों से चीन लगातार सक्रिय है। चीन लगातार एलएसी पर रिमोट कंट्रोल रडार्स इंस्‍टॉल करने में लगा हैं। रक्षा विशेषज्ञों की मानें तो कहीं न कहीं यह संदेश देने की तैयारी में हैं कि वह युद्ध के लिए पूरी तरह से तैयार हो चुका है। उसकी ये सभी कोशिशें कहीं न कहीं भारत को दिमाग में रखकर अंजाम दी जा रही हैं। चीन के स्‍टाफ ऑफिसर चेन कियांग की मानें तो अब वो दिन गए जब ऊंचाई वाले रडार स्‍टेशन पर सैनिकों को तैनात किया जाता था।