असम सरकार ने अलकायदा इन इंडियन सबकॉन्टिनेंट यानि एक्यूआईएस के मॉड्यूल पर बड़ी कार्रवाई की है. असम से पकड़े गए अलकायदा मॉड्यूल के सरगना मुफ्ती मुस्तफा के सहरियागांव स्थित अवैध मदरसे को राज्य सरकार ने यूपी की योगी सरकार के मॉडल को अपनाते हुए बुलडोजर से गिरा दिया है. असम पुलिस की ओर से मुस्तफा समेत अलकायदा मॉड्यूल के 11 संदिग्धों को मोरी गांव और बारपेटा से गिरफ्तार किया गया था. मुस्तफा के तार बांग्लादेश के आतंकी संगठन अंसारुल्लाह बांग्ला टीम के कमांडर से जुड़े होने के सुराग मिले हैं. पुलिस और एजेंसियां इस संबंध में जांच कर रही हैं.

यह भी पढ़े : सिर्फ 19 मिनट में फुल चार्ज हो जाएगा OnePlus 10T, कीमत 50 हजार रुपये, जानिए स्पेसिफिकेशन


वहीं असम के मुख्यमंत्री हिमंत बिस्व सरमा ने जानकारी दी है कि मार्च में बांग्लादेश के आंतकी संगठन अंसारुल्लाह बांग्ला टीम के 6 आतंकियों को गिरफ्तार किया गया था. उनकी गिरफ्तारी बारपेटा से हुई थी. उन्होंने बताया कि इसका सरगना बांग्लादेशी नागरिक था, जो गैर कानूनी तरह से भारत में घुसा था.

यह भी पढ़े : Numerology Horoscope 4 August : आज इन तारीखों में जन्मे लोगों को मिलेगा भाग्य का साथ, जानिए आपका


इससे पहले असम के बारपेटा जिले से बांग्लादेश में अल-कायदा नेटवर्क से जुड़े दो संदिग्ध आतंकवादियों को हाल ही में गिरफ्तार किया गया था. पुलिस के अनुसार गिरफ्तार संदिग्धों की पहचान मोरीगांव निवासी मुफ्ती मुस्तफा और अफसरुद्दीन भुयान के तौर पर की गई थी. वरिष्ठ अधिकारियों के मुताबिक, एक आतंकी को रविवार रात गारेमारी पाथर से और दूसरे आतंकी को मंगलवार सुबह कलगछिया क्षेत्र के एक गांव से गिरफ्तार किया गया था.

यह भी पढ़े : Raksha Bandhan: जानिए 11 अगस्त को किस समय और 12 अगस्त को कब बांध सकते है राखी


एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया, ‘रविवार रात को गिरफ्तार किया गया संदिग्ध आठ दिनों के लिए पुलिस हिरासत में रहेगा. दूसरे आतंकी को उसकी गिरफ्तारी के 24 घंटे के भीतर अदालत में पेश किया जाना है.वहीं असम के कार्बी आंगलांग जिले में उग्रवादी संगठन कार्बी युनाइटेड लिबरेशन आर्मी (कुला) के तीन उग्रवादियों को गिरफ्तार किया गया है. गिरफ्तार किए गए लोगों में संगठन का स्वयंभू अध्यक्ष भी शामिल है. पुलिस ने बुधवार को इसकी जानकारी दी थी.

यह भी पढ़े : Ekadashi Vrat : 8 अगस्त को है पुत्रदा एकादशी, जानिए पूजा- विधि, शुभ मुहूर्त और पूजन सामग्री

पुलिस ने बताया था कि मंगलवार की रात लंगबाकू इलाके में एक अभियान चलाया गया था. उन्होंने बताया कि पुलिस को संगठन के अध्यक्ष डेनियल टेरॉन तथा अन्य सदस्यों के इलाके में आवागमन की सूचना मिली थी. पुलिस उपाधीक्षक नाहिद करिश्मा ने बताया कि पुलिस को देखते ही उग्रवादियों ने गोलीबारी शुरू कर दी, जिसके बाद मुठभेड़ शुरू हो गई थी, जिसमें टेरॉन को गोली लगी और वह घायल हो गया जिसके बाद उसे दीफू मेडिकल कॉलेज एवं अस्पताल में भर्ती कराया गया है. उन्होंने बताया था कि हथियार एवं गोलियों के अलावा मोबाइल फोन एवं विभिन्न दस्तावेज मौके से बरामद किए गए हैं.