त्रिपुरा में 4 विधानसभा क्षेत्रों में 23 जून को होने वाले उपचुनाव की प्रक्रिया से जुड़े वरिष्ठ अधिकारियों ने मतदाताओं को स्वतंत्र एवं निष्पक्ष चुनाव कराने का आश्वासन देते हुए बड़ी संख्या में बाहर आकर EVM का बटन दबाने की अपील की है। पहले से किए गए उपायों की जानकारी देते हुए वरिष्ठतम अधिकारियों ने कहा कि CRPC की धारा 144 के तहत निषेधाज्ञा पहले ही सभी निर्वाचन क्षेत्रों में लागू कर दी गई है।


इसी के साथ यह 23 जून तक लागू रहेगी और फिर से 26 जून को मतगणना के दिन लागू की जाएगी। अगरतला के दोनों निर्वाचन क्षेत्रों के 48 स्थानों के सभी 111 मतदान केंद्रों की सुरक्षा केंद्रीय पुलिस और अर्धसैनिक बलों द्वारा की जाएगी और राज्य पुलिस और TSR की उनमें कोई भूमिका नहीं होगी।


कुल मिलाकर 17 पुलिस स्टेशनों की पहचान गंभीर और अति संवेदनशील के रूप में की गई है और उनमें केंद्रीय पुलिस और अर्धसैनिक बलों का एक-एक सेक्शन ड्यूटी पर रहेगा। उन्होंने कहा कि शिकायत दर्ज करने के लिए SDM, DM और पुलिस प्राधिकरण के साथ-साथ चुनाव पर्यवेक्षकों के कार्यालय टेलीफोन पर संपर्क के लिए होंगे और पांच मिनट के भीतर जवाब दिया जाएगा।


डीएम (पश्चिम), एसपी और आरओ ने कहा कि डरने की कोई वजह नहीं होगी और लोग खुलकर और निडर होकर बाहर निकल सकेंगे और मतदान कर सकेंगे।