पूर्व मुख्यमंत्री और मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी के नेता माणिक सरकार ने भाजपा के अपने प्रतिद्वंद्वी और नए मुख्यमंत्री माणिक साहा से त्रिपुरा में “एक लोकतांत्रिक माहौल” वापस लाने का आग्रह किया।

ये भी पढ़ेंः बीजेपी का माकपा और कांग्रेस पर तीखा हमला, कहा - दिल्ली में एक ही बिस्तर पर सोते हैं, जबकि...


सिपाहीजाला जिले के बक्सानगर में एक रैली को संबोधित करते हुए सरकार ने कहा कि पिछले चार साल में माकपा के कई नेताओं के कार्यालय जला दिए गए और पार्टी के कई नेताओं पर हमले किये गए। सरकार ने दावा किया कि पिछले 50 महीने के भाजपा के शासन में राज्य में न केवल माकपा बल्कि कांग्रेस और मीडिया को भी बहुत सी समस्याओं का सामना करना पड़ा।

ये भी पढ़ेंः चुनाव आयोग ने त्रिपुरा चार विधानसभा सीटों पर उपचुनाव की तारीख की घोषणा की


उन्होंने कहा, एक नए मुख्यमंत्री ने भाजपा-आईपीएफटी गठबंधन सरकार का दायित्व लिया है। हमें उम्मीद है कि नए मुख्यमंत्री राज्य में लोकतांत्रिक मूल्यों को बहाल करेंगे जहां विपक्षी दलों को राजनीतिक गतिविधियां करने का स्थान मिलेगा। वर्ना लोग चुप नहीं बैठेंगे।