मेघालय के मुख्यमंत्री कोनराड संगमा ने कहा कि शांति वार्ता में हिस्सा लेने वाले हिनीवट्रेप नेशनल लिबरेशन काउंसिल (एचएनएलसी) के उग्रवादियों की सुरक्षा बरकरार रखी जाएगी। संगमा ने संवाददाताओं से कहा, यह सुनिश्चित करना सरकार का कर्तव्य है कि वार्ता के लिए आने वाले प्रत्येक व्यक्ति की सुरक्षा सुनिश्चित की जाए।

ये भी पढ़ेंः NESO ने की सभी नॉर्थईस्ट राज्यों की राजधानियों में कई मुद्दों को लेकर विरोध करने की घोषणा


उग्रवादी संगठन ने राज्य और केंद्र सरकार के साथ त्रिपक्षीय शांति वार्ता में भाग लेने वाले प्रतिनिधियों की सुरक्षा सुनिश्चित करने का आग्रह किया था। एचएनएलसी ने शांति वार्ता में भाग लेने के लिए अपने वाइस चेयरमैन मनभालंग जिरवा, राजनीतिक सचिव, एरिस्टरवेल थोंगनी और विदेश सचिव फ्रांगकुपर डिएंगदोह को अधिकृत किया है। मुख्यमंत्री ने कहा कि एचएनएलसी के साथ आधिकारिक स्तर की वार्ता जल्द शुरू होगी और शांति वार्ता के सफल होने की आशा व्यक्त की। 

ये भी पढ़ेंः मेघालय पर्यटन विभाग ने जीता IITM बेंगलुरु 2022 में 'बेस्ट ग्रामीण पर्यटन प्रचार' का खिताब


एचएनएलसी का प्रतिनिधित्व उसके संगठन के नेताओं और उसके प्रतिनिधि सैडोन के. ब्लाह द्वारा किया जाएगा, जो हाइनीवट्रेप नेशनल यूथ फ्रंट के अध्यक्ष भी हैं। राज्य सरकार ने एचएनएलसी के साथ बातचीत को सुविधाजनक बनाने के लिए सेवानिवृत्त नौकरशाह पीटर एस. दखर को अपना वार्ताकार नियुक्त किया है। गृह मंत्रालय के सलाहकार (पूर्वोत्तर) एके मिश्रा शांति प्रक्रिया की देखरेख करेंगे।