मणिपुर स्टेट पावर डिस्ट्रीब्यूशन कंपनी लिमिटेड (MSPDCL) ने सोमवार को 11KV काकवा फीडर के सभी उपभोक्ताओं को सूचित किया कि मंगलवार को दोपहर 12 बजे से दोपहर 3 बजे तक नियोजित बंद रहेगा। MSPDCL की एक विज्ञप्ति में कहा गया है कि 11KV काकवा फीडर के उपभोक्ताओं को दोपहर 12 बजे से शाम 4 बजे तक जंगल काटने और लाइन रखरखाव कार्य के लिए नियोजित शटडाउन के कारण बिजली की आपूर्ति नहीं मिलेगी। इसमें हुई असुविधा के लिए गहरा खेद है।                      

                                              

                                              

                                              

जानकारी दे दें कि साइकुल MSPDCL स्टाफ जीवन जोखिम में डालता है, बिजली रेखा को बहाल करने के लिए मजबूत नदी के पार तैरना जहां लगातार बारिश के बाद नदी का अधिकांश हिस्सा खतरे के निशान पर बह गया, सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म में रीढ़ की हड्डी को ठंडा करने वाला वीडियो क्लिप सामने आया जहां साइकुल में MSPDCL कर्मचारी जो दिहाड़ी के आधार पर लगे थे, को एक स्ना को बहाल करने में अपनी जान जोखिम में डालते देखा गया था PPD और जलमर्ज बिजली लाइनें।
प्राप्त जानकारी के अनुसार साइकुल में ओवरहेड हाईटेंशन बिजली लाइन का टुकड़ा नदी में गिर गया था, जिससे तेज हवा के साथ तेज बह रही नदी के दूसरी ओर के गांवों में बिजली आपूर्ति बंद हो गई थी। सूत्रों ने आगे बताया कि जो व्यक्ति दिहाड़ी के आधार पर एमएसपीडीसीएल साइकुल में लिप्त था, उसने एचटी बिजली लाइन को ले जाकर अपनी जान जोखिम में डाल दी और मजबूत नदी के करंट को तैरकर पार किया और बिजली लाइन को बहाल कर दिया।

आगे दिहाड़ी पर लगे कर्मचारियों ने जलमग्न हाईटेंशन बिजली लाइन से पेड़ और बांस का मलबा साफ किया। मलबे को साफ करने से लेकर पोल को ठीक करने से लेकर उफान पर नदी के पानी में बिजली लाइन बहाल करने तक। ये सब दिहाड़ी कर्मचारियों ने मात्र 6000 रुपये प्रति माह मिलने के साथ किया।