मणिपुर के पत्रकारों ने राष्ट्रीय जांच एजेन्सी (एनआईए) द्वारा ऑल मणिपुर वर्किंग जर्नलिस्ट्स यूनियन (एएमडब्ल्यूजेयू) के अध्यक्ष के शामजाई को कथित तौर पर प्रताड़ति किए जाने को लेकर धरना दिया। एएमडब्ल्यूजेयू अध्यक्ष से दो अगस्त को पूछताछ की गई थी और पत्रकारों ने इसके विरोध में प्रदर्शन किया था। 

ये भी पढ़ेंः हैदराबाद में हत्या के आरोप में मणिपुर का व्यक्ति गिरफ्तार


एनआईए ने उनसे फिर पूछताछ की। इससे पहले ऑल मणिपुर वर्किंग जर्नलिस्ट्स यूनियन (एएमडब्ल्यूजेयू), एडिटर्स गिल्ड मणिपुर (ईजीएम) और मणिपुर हिल जर्नलिस्ट्स यूनियन (एमएचजेयू) की ओर से  राज्यपाल एल गणेशन और मुख्यमंत्री एन बीरेन को इस मामले की जानकारी देते हुए एक ज्ञापन सौंपा गया था। इस बीच, इंडियन जर्नलिस्ट्स यूनियन ने अखिल मणिपुर वर्किंग जर्नलिस्ट्स यूनियन के अध्यक्ष वांगखेमचा शामजाई को राष्ट्रीय जांच एजेंसी द्वारा तलब करने और परेशान करने की निंदा की। आईजेयू अध्यक्ष गीतार्थ पाठक आज यहां विरोध प्रदर्शन में शामिल हुए और एनआईए से पत्रकारों के खिलाफ इस तरह की मनमानी कार्रवाई से बचने और प्रेस की स्वतंत्रता का सम्मान करने की मांग की वांगखेमचा शमजाई एक सम्मानित पत्रकार और एक शाम के दैनिक के समाचार संपादक हैं।

ये भी पढ़ेंः CWG 2022 जूडो में सिल्वर मेडल हासिल करने वाली सुशीला देवी को पीएम मोदी ने दी बधाई, फेसबुक पर शेयर की फोटो


आइजेयू अध्यक्ष और प्रेस परिषद की पूर्व सदस्य गीतार्थ पाठक और आईजेयू महासचिव और आईएफजे के उपाध्यक्ष और फेडरेशन ऑफ एशिया पैसिफिक जर्नलिस्ट्स एसोसिएशन के अध्यक्ष ने कहा कि किसी भी लोकतांत्रिक समाज में एएमडब्ल्यजेयू के अध्यक्ष के साथ ऐसा उत्पीड़न अस्वीकार्य है। मीडिया संगठनों के साथ एकजुटता व्यक्त करते हुए आईजेयू ने कहा कि एनआईए की कार्रवाई मीडिया के कामकाज और उसकी स्वतंत्रता के लिए एक बड़ी चुनौती है। उन्होंने राज्यपाल और मुख्यमंत्री से इस मामले को देखने और यह सुनिश्चित करने के लिए आवश्यक कार्रवाई करने का आग्रह किया कि भविष्य में एनआईए या किसी अन्य जांच एजेंसियों द्वारा मीडिया बिरादरी को और परेशान न किया जाए।