अरुणाचल प्रदेश में शुक्रवार को एक हेलीकॉप्टर दुर्घटना में मारे गये हनुमानगढ़ के विकास भांभू और झुंझुनूं के रोहिताश्व कुमार का सोमवार को उनके पैतृक गांव में पूरे सैन्य सम्मान के साथ अंतिम संस्कार किया गया।

ये भी पढ़ेंः सेना के जवानों के पार्थिव शरीरों की बरामदगी के साथ बचाव अभियान खत्म


हनुमानगढ़ के तलवाड़ा थानाधिकारी लाल बहादुर ने बताया कि मेजर विकास भांभू का रामपुरा गांव में पूरे सैन्य सम्मान के साथ अंतिम संस्कार किया और उनकी बेटी (नौ माह) ने उन्हें मुखाग्नी दी। उन्होंने बताया कि इस अवसर पर सांसद निहालचंद, पूर्व केंद्रीय मंत्री सुभाष महरिया, मंत्री गोविंद राम मेघवाल मौजूद रहे। उन्होंने बताया कि बड़ी संख्या में ग्रामीणों के अलावा सेना, प्रशासन, पुलिस के अधिकारी भी मौजूद थे। इससे पूर्व सूरतगढ के सैन्य छावनी में शिल्प-माटी कला बोर्ड अध्यक्ष डूंगरराम गेदर ,सैन्य अधिकारियों और जवानों ने उन्हें श्रद्धांजलि दी। मेजर विकास भांभू का पार्थिव शरीर रविवार की रात हनुमानगढ़ पहुंच गया था सोमवार सुबह उनके देह को पैतृक गांव लाया गया था। झुंझुनूं के रोहितराश्व कुमार खैरवा का पार्थिव शरीर उदयपुरवाटी के गुढ़ा से तिरंगा रैली के रूप में पोषणा गांव अंतिम संस्कार के लिए ले जाया गया।

ये भी पढ़ेंः अरुणाचल में हेलीकॉप्टर के क्रैश होने से पहले पायलटों ने किया था ‘मेयडे’ कॉलः सेना


पुलिस ने बताया कि रोहिताश्व कुमार के पैतृक गांव पोषणा में शहीद का पूरे सैन्य सम्मान के साथ अंतिम संस्कार किया गया। उन्हें उनकी पांच माह की बेटी रितिका ने मुखाग्नि दी। इस अवसर राजस्थान के मंत्री राजेन्द्र गुढा, बड़ी संख्या में ग्रामीणों के साथ साथ सेना, प्रशासनिक और पुलिस अधिकारी मौजूद थे। इस अवसर पर मंत्री राजेन्द्र गुढा ने कहा कि कुमार के परिजनों को ईश्वर यह दुख सहन करने की शक्ति प्रदान करें । उल्लेखनीय है कि अरुणाचल प्रदेश में शुक्रवार को हुए दुर्घटनाग्रस्त हेलीकॉप्टर में हनुमानगढ के मेजर विकास भांभू, उदयपुर के मेजर मुस्तफा जकी उद्दीन बोहरा और झुंझुनूं के नायक रोहिताश शहीद हो गये थे। उदयपुर के मेजर मुस्तफा जकी उद्दीन बोहरा के पार्थिव देह का रविवार रात को सैन्य सम्मान के साथ खांजीपीर स्थित कब्रिस्तान में सुपुर्द ए खाक कर दिया गया था।