त्रिपुरा के पूर्व मुख्यमंत्री बिप्लब कुमार देब की सुरक्षा कम कर दी गई है। एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने यह जानकारी दी। बता दें कि देब ने 14 मई को मुख्यमंत्री पद छोड़ दिया था। हालांकि गृह मंत्रालय द्वारा उन्हें अभी भी 'जेड' श्रेणी की सुरक्षा प्रदान की जा रही है।

ये भी पढ़ेंः मंत्री ने पूर्व मुख्यमंत्री बिप्लब देव की तुलना महात्मा गांधी, विवेकानंद से की, बिप्लब देव के जन्म की वजह भी बताई


अधिकारी ने कहा कि 21 मई से पूर्व सीएम के काफिले से तीन वाहनों को वापस ले लिया गया था। अब हम उन्हें चार-वाहन कवर प्रदान कर रहे हैं। 2023 के विधानसभा चुनाव से पहले एक आश्चर्यजनक कदम में भाजपा ने देब की जगह राज्यसभा सांसद माणिक साहा को त्रिपुरा का नया मुख्यमंत्री बनाया।देब ने नई दिल्ली में केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह और भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा से मुलाकात के एक दिन बाद 14 मई को इस्तीफा दे दिया था।

ये भी पढ़ेंः मुख्यमंत्री पद से हटने के बाद जनता से कुछ इस तरह रुबरु हो रहे बिप्लब कुमार देब


आपको बता दें कि पार्टी की युवा ब्रिगेड का दृढ़ विश्वास है कि देब प्रदेश भाजपा के अध्यक्ष के रूप में वापसी करेंगे, लेकिन कुछ सूत्रों ने यह भी कहा कि राज्य महासचिव किशोर बर्मन माणिक साहा की जगह प्रदेश पार्टी अध्यक्ष बनने जा रहे हैं। भाजपा के पूर्व विधायक और कांग्रेस नेता आशीष साहा ने भी इस मुद्दे पर भाजपा के केंद्रीय नेतृत्व से स्पष्टीकरण मांगा। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गृह मंत्री अमित शाह ने अपने कार्यकाल के दौरान बिप्लब कुमार देब की प्रशंसा करने का कोई मौका नहीं छोड़ा। पार्टी आलाकमान ने हमेशा उनके खिलाफ उठाई गई आवाजों को नजरअंदाज किया। लेकिन अचानक हुए मन के परिवर्तन ने पूरे राज्य को झकझोर कर रख दिया है और भाजपा को सफाई देनी चाहिए।