त्रिपुरा में सीपीआई-एम और कांग्रेस पार्टियों के बीच गठबंधन पर टिप्पणी करते हुए बिप्लब देब ने कहा कि दोनों पार्टियों ने झूठे वादों के साथ दशकों तक राज्य के लोगों को बेवकूफ बनाया। देब ने कहा कि दोनों विपक्षी दलों को अब त्रिपुरा के लोगों से "करारा जवाब पाने के लिए तैयार रहना चाहिए"।

उन्होंने दावा किया कि 2018 में बीजेपी से सत्ता खोने से पहले 25 साल तक त्रिपुरा पर शासन करने वाली माकपा के पास सत्ता में लौटने का कोई मौका नहीं है।

मेघालय विधानसभा चुनाव 2023: टीएमसी 24 जनवरी को चुनावी घोषणापत्र जारी करेगी


बिप्लब देब ने सिपाहीजला जिले के सोनमुरा इलाके में एक रैली के दौरान कहा, "त्रिपुरा में माकपा के सत्ता में लौटने की कोई संभावना नहीं है, क्योंकि इसने कई वर्षों तक लोगों का दमन किया है।"

ऐसे लोगों के घर में हमेशा वास करती हैं मां लक्ष्‍मी, घर में होती है खूब बरकत


उन्होंने कहा कि त्रिपुरा बीजेपी "भारी जनादेश के साथ चुनाव जीतेगी"। 60 सदस्यीय त्रिपुरा विधानसभा के लिए चुनाव 16 फरवरी को होंगे। मतगणना दो मार्च को होगी।