अपदस्थ मुख्यमंत्री बिप्लब कुमार देब और मुख्यमंत्री डॉ माणिक साहा द्वारा अपने व्यक्तिगत और साथ ही भाजपा के आधिकारिक पेज से किए गए दो परस्पर विरोधी 'Facebook' पोस्ट ने भाजपा कार्यकर्ताओं और समर्थकों को भ्रम की स्थिति में डाल दिया है।

बता दें कि सुबह लगभग 11-00 बजे बिप्लब ने एक टिप्पणी पोस्ट की कि वह 6-अगरतला निर्वाचन क्षेत्र में उपचुनाव से संबंधित मुद्दों पर चर्चा करने के लिए आज दोपहर 3-30 बजे हिंदी हायर सेकेंडरी स्कूल में भाजपा के 'पृथ्वी प्रमुखों' के साथ बैठक करेंगे।
लेकिन इससे पहले मुख्यमंत्री डॉ. माणिक साहा द्वारा 'फेसबुक' में सुबह 10-00 बजे के आसपास दो पोस्ट किए गए थे और साथ ही सोशल मीडिया मेजर में बीजेपी के आधिकारिक पेज पर एक अलग पोस्ट किया गया था कि मुख्यमंत्री एक का आयोजन करेंगे। रवीन्द्र शतवार्षिकी भवन में सायं 4 बजे 'प्रमुख' की बैठक।


इससे भाजपा के कार्यकर्ताओं और समर्थकों के मन में असमंजस की स्थिति पैदा हो गई है कि किस बैठक में शामिल होना है, इसे लेकर असमंजस की स्थिति बनी हुई है।
भाजपा नेता ने कहा कि “जहां तक ​​​​हम जानते हैं कि पार्टी के केंद्रीय नेतृत्व ने बिप्लब कुमार देब को पार्टी मामलों में और साथ ही उप-चुनाव के प्रचार में कोई भी सक्रिय भूमिका निभाने से रोकने के लिए कहा है, लेकिन इन दो परस्पर विरोधी पदों ने एक भ्रम पैदा किया है; हम निश्चित रूप से मुख्यमंत्री के नाम पर बुलाई गई बैठक में शामिल होंगे, ”।

उन्होंने कहा कि पार्टी का जनादेश अपदस्थ मुख्यमंत्री द्वारा बैठक के लिए व्यक्तिगत आह्वान से कहीं अधिक महत्वपूर्ण है। इसके अलावा भाजपा के सूत्रों ने बताया कि कल भी बिप्लब ने कैलास बिजय वर्गिया और बेनोद सोनकर के साथ बैठे हुए एक तस्वीर पोस्ट कर भ्रम पैदा करने की कोशिश की थी। सूत्रों ने कहा कि बिप्लब कल दिल्ली से अगरतला हवाई अड्डे पर पहुंचे थे और उन्हें पता चला कि विजयबर्गिया और सोनकर प्रस्थान लाउंज से त्रिपुरा छोड़ रहे हैं और प्रस्थान लाउंज में प्रवेश करने और उनके साथ शिष्टाचार का आदान-प्रदान करने में कामयाब रहे, खुद की फोटो खींची।


बाद में बिप्लब ने अपने 'फेसबुक' पेज पर तस्वीर पोस्ट करते हुए दावा किया कि उन्होंने केंद्रीय पर्यवेक्षकों के साथ उपचुनाव के मुद्दों पर चर्चा की, जिससे भाजपा कार्यकर्ताओं और समर्थकों के बीच 'फेसबुक' के अनुयायियों के मन में भ्रम पैदा हो गया।