अरुणाचल प्रदेश में बनाए जा रहे ट्रांस अरुणाचल राजमार्ग परियोजना से प्रभावित लोगों को सरकार से मिले मुआवजे में कथित गड़बड़ी को लेकर ईडी (ED) ने जांच शुरू की है। एजेंसी ने अधिकारियों पर फंड के दुरुपयोग करने का भी आरोप लगाया है।

यह भी पढ़ें- खनिकों की मौत के बाद अवैध रैट-होल कोयला खनन की उच्च स्तरीय जांच की मांग

ट्रांस अरुणाचल राजमार्ग परियोजना के तहत राज्य में लगभग 2,396 किलोमीटर लंबी सड़क बननी है। जिसका उद्देश्य राज्य के 16 जिलों को पश्चिमी अरुणाचल में तवांग से राज्य के दक्षिण-पूर्वी हिस्से में लोंगडिंग जिले के कनुबारी से जोड़ना है।

जांच एजेंसी ने एक बयान में कहा कि ईडी ने राज्य में 20 सितंबर को दो तलाशी अभियान चलाए जिसके बाद उसने धन शोधन रोकथाम अधिनियम (पीएमएलए) की आपराधिक धाराओं के तहत 3.95 करोड़ रुपये की जमा राशि को रोक दिया।

यह भी पढ़ें- नागालैंड की विरासत पर आधारित 12 लघु फिल्में रिलीज

ईडी ने बयान में कहा कि हमने जांच में पाया कि कुछ सरकारी अधिकारियों ने निजी व्यक्तियों की मिलीभगत से कई फर्जी लाभार्थी बनाए ताकि खुद को गलत लाभ हो और सरकारी खजाने को नुकसान हो। साथ ही जांच से पता चला है कि आरोपी व्यक्तियों द्वारा अपराध की आय का एक हिस्सा कई बैंक खातों और सावधि जमा के माध्यम से भेजा गया था।