रक्षा मंत्रालय ने अरुणाचल प्रदेश में सीमा सड़क संगठन (बीआरओ) के साथ 19 स्थानों पर कैफे खोलने की मंजूरी दी है। कुल मिलाकर, मंत्रालय ने 12 राज्यों / केंद्र शासित प्रदेशों में 75 सीमा सड़कों पर इस तरह की सुविधाओं की स्थापना को मंजूरी दी है।

ये भी पढ़ेंः ईटानगर हवाई अड्डे के लिए मोबाइल एयर ट्रैफिक कंट्रोल और VHF सिस्टम लागू

 

एक बयान में कहा गया है कि इनका उद्देश्य पर्यटकों को बुनियादी सुविधाएं, आराम और स्थानीय लोगों के लिए रोजगार पैदा करने के अलावा सीमावर्ती क्षेत्रों में आर्थिक गतिविधियों को बढ़ावा देना है। बता दें कि ये कैफे अरुणाचल के दापोरिजो, बामे, कोलोरियांग, पासीघाट, मेचुखा, मोयिंग, थम्बिन, यिंगकिओंग, टिप्पी, दुर्गा मंदिर, किमी 79, टेंगा, राम कैंप, सेला टॉप, तवांग, जेंगथु, ह्युलियांग, वाक्रो और चांगविन्टी में खोले जाएंगे। 

ये भी पढ़ेंः चीन को मजा चखाएंगे अग्निवीर, LAC पर विषम हालात में निभाएंगे बड़ी भूमिका


वहीं दूसरी तरफ मुख्यमंत्री पेमा खांडू ने देश के रक्षा बल के तीनों अंगों में अग्निपथ योजना के माध्यम से 'अग्निपथ' की भर्ती के केंद्र सरकार के फैसले का स्वागत किया। उन्होंने आशावाद व्यक्त किया कि सेना, नौसेना और वायु सेना जल्द ही "युवा और ऊर्जा से जगमगाएगी।" यहां एक योग दिवस कार्यक्रम में बोलते हुए खांडू ने कहा, "'अग्निवर', सेवानिवृत्ति के बाद राज्य पुलिस सेवाओं में सर्वोच्च प्राथमिकता दी जाएगी।" उन्होंने कहा कि जो लोग अपना खुद का व्यवसाय शुरू करना चाहते हैं, उन्हें राज्य सरकार की सभी प्रमुख योजनाओं के माध्यम से प्राथमिकता दी जाएगी।