मणिपुर पुलिस ने इम्फाल पूर्व के खुरई में देर रात वाहनों के टायर जला रही भीड़ को नियंत्रित करने के लिए आंसू गैस के गोले छोड़े। पुलिस ने कहा कि एक मंदिर के क्षतिग्रस्त होने की सूचना मिली थी, जिसके बाद आसपास के निवासी सड़कों पर आ गये वाहनों के टायरों को फूंक दिया और मुख्य सड़क को जाम कर दिया। 

ये भी पढ़ेंः असम राइफल्स ने भारत-म्यांमार सीमा पर 42 लाख रुपये मूल्य का मादक पदार्थ जब्त किया


भीड़ को नियंत्रित करने के लिए पुलिस ने आंसू गैस के गोले दागे और उसके बाद आधी रात तक सामान्य स्थिति बहाल हो पायी। किसी भी अप्रिय घटना को रोकने के लिए मंगलवार को पुलिस क्षेत्र में चौकसी बरत रही है। राज्य के अधिकारियों ने लोगों को अफवाह नहीं फैलाने और गलतफहमी पैदा करने के खिलाफ चेतावनी दी है।

ये भी पढ़ेंः मणिपुर नागरिक समूह ने की कुकी विद्रोही समूहों के साथ संघर्ष विराम समझौते को वापस लेने की मांग


इससे पहले मणिपुर की राजधानी इंफाल में एंड्रो पार्किंग में पुलिस ने करीब चार किलोग्राम वजनी आईईडी बरामद किया गया। पुलिस सूत्रों ने बताया कि कुछ लोगों ने एक दुकान के पास लावारिस पैकेट देखकर उन्हें सतर्क किया। आईईडी शक्तिशाली होने के बाद बम विशेषज्ञों ने इलाके की घेराबंदी कर दी। बाद में आईईडी को डिफ्यूज करने के बाद इसे सुरक्षित स्थान पर ले जाकर विस्फोट कर दिया गया। पुलिस ने मामले की जांच शुरू कर दी है।