इम्फाल। नशे के विरुद्ध बड़ी कार्रवाई करते हुए मणिपुर पुलिस और वन विभाग के साथ एक संयुक्त अभियान में असम राइफल्स ने शुक्रवार को मणिपुर के नोनी जिले के नुंगबा सब-डिवीजन के लोंगपी गांव पहाड़ी रेंज में 1.25 एकड़ वन भूमि में लगाए गए 80 हजार अफीम के पौधों की फसल को नष्ट कर दिया। असम राइफल्स के अनुसार अफीम के पौधों की कीमत करीब 10 लाख रुपये आंकी गई है। सुरक्षा बलों की इस कार्यवाई से नशे का कारोबार करने वाले गिरोह को गहरी चोट पहुंची है।

सोनल के प्यार में 12 लाख खर्च कर लड़की से लड़का बनी थी सना खान, फिर प्यार में मिला ऐसा बड़ा धोखा

अपने आधिकारिक बयान में असम राइफल्स ने बताया कि मुख्यालय महानिरीक्षक असम राइफल्स के निर्देश पर मुख्यालय 21 सेक्टर असम राइफल्स की श्रीकोना बटालियन ने 20 जनवरी 2023 को मणिपुर में नोनी जिले के नुंगबा सब डिवीजन में लोंगपी गांव हिल रेंज में अफीम के पौधों की बड़े पैमाने पर खेती को नष्ट कर दिया। बयान में आगे कहा गया है कि लोंगपी गांव की हिल रेंज में बड़े पैमाने पर अफीम के पौधों के रोपण के बारे में जानकारी के आधार पर, असम राइफल्स की श्रीकोना बटालियन ने मणिपुर पुलिस के साथ नुंगबा पुलिस स्टेशन और नोनी वन विभाग के अधिकारियों के साथ एक संयुक्त अभियान शुरू किया था।

Harley Davidson ने उतारी सबसे अनोखी बाइक, 3 पहियों के साथ ये हैं धांसू खूबियां

आगे असम राइफल्स ने कहा कि लगभग 80 हजार अफीम के पौधों को नष्ट किया गया, जो मणिपुर के नोनी जिले के तहत नुंगबा उपखंड में लोंगपी गांव हिल रेंज में वन भूमि की 1.25 एकड़ जमीन पर लगाए गए थे। आपको बता दें कि पिछले दिनों ही मणिपुर के मुख्यमंत्री एन बीरेन सिंह ने कहा था कि स्वेच्छा से आत्मसमर्पण करने वाले अफीम किसानों को पुलिस मामलों से छूट दी जाएगी, लेकिन साथ ही कहा कि इसकी खेती को प्रोत्साहित करने और समर्थन करने वालों के खिलाफ कानूनी कार्रवाई शुरू की जाएगी।