ईटानगर : अरुणाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री पेमा खांडू ने कहा कि पुलिस कर्मियों की भूमिका केवल कानून-व्यवस्था लागू करने तक ही सीमित नहीं होनी चाहिए, बल्कि उन्हें विकास प्रक्रिया में सक्रिय भागीदार बनने का भी प्रयास करना चाहिए। अरुणाचल प्रदेश पुलिस के पुलिस अधीक्षकों और कमांडेंटों के 4 दिवसीय वार्षिक सम्मेलन के समापन समारोह को संबोधित कर Pema Khandu ने कहा, "चूंकि पुलिस अधिकारियों को समाज में रोल मॉडल के रूप में देखा जाता है, इसलिए उन्हें युवाओं को अधिक सकारात्मक भूमिकाओं के लिए प्रेरित करना चाहिए।"

ये भी पढ़ेंः हैदराबाद में हत्या के आरोप में मणिपुर का व्यक्ति गिरफ्तार

इसके साथ ही सामुदायिक पुलिस व्यवस्था पर जोर देते हुए मुख्यमंत्री ने पुलिस अधिकारियों से स्थानीय लोगों के साथ अच्छे संबंध बनाए रखने का अनुरोध किया ताकि सकारात्मक माहौल बनाने और आपराधिक गतिविधियों को कम करने में मदद मिल सके। खांडू ने मादक द्रव्यों से संबंधित अपराधों से प्रभावी ढंग से निपटने के लिए पुलिस विभाग की सराहना की। उन्होंने कहा कि चाहे वह उग्रवाद, अपराध या नशीले पदार्थों के खिलाफ युद्ध हो, पुलिस बल ने अपनी क्षमता साबित की है।

नशाखोरी को उग्रवाद से ज्यादा खतरनाक बताते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि अगर इस मुद्दे से ठीक से निपटा नहीं गया तो राज्य के लिए काले दिन आने वाले हैं। खांडू ने विद्रोहियों के आत्मसमर्पण को सुनिश्चित करने में अच्छी प्रगति करने के लिए विभाग की सराहना की। उन्होंने आश्वासन दिया कि सरकार के फ्लैगशिप कार्यक्रमों के माध्यम से आत्मसमर्पण करने वाले विद्रोहियों के पुनर्वास के लिए जल्द ही एक आत्मसमर्पण नीति शुरू की जाएगी।

बढ़ते साइबर अपराध को ध्यान में रखते हुए मुख्यमंत्री ने पुलिस से आग्रह किया कि अपराध की नई उभरती प्रवृत्तियों से निपटने के लिए डिजिटल दुनिया का सक्रिय हिस्सा बनने के लिए उपलब्ध तकनीक का लाभ उठाएं। इसके अलावा उन्होंने पुलिस विभाग से राज्य में ईआईएलपी संस्करण 3 के सफल कार्यान्वयन में सक्रिय भूमिका निभाने का आग्रह किया। खांडू ने बताया कि संस्करण 3, जिसे वर्तमान में विकसित किया जा रहा है उसमें ईआईएलपी परमिट के स्वत: उत्पादन के लिए पूरी प्रक्रिया को सहज बनाने का प्रावधान है।

ये भी पढ़ेंः CWG 2022 जूडो में सिल्वर मेडल हासिल करने वाली सुशीला देवी को पीएम मोदी ने दी बधाई, फेसबुक पर शेयर की फोटो

उन्होंने असम-अरुणाचल सीमा पर तैनात पुलिस अधिकारियों से उनकी सकारात्मक भूमिका और जटिल सीमा मुद्दे के शीघ्र समाधान की सुविधा के लिए सहयोग करने का अनुरोध किया। उन्होंने उनसे अंतरराष्ट्रीय सीमाओं पर तैनात भारतीय सशस्त्र बलों के जवानों के साथ अच्छे संबंध बनाए रखने का भी आग्रह किया। समापन समारोह को गृह मंत्री बामांग फेलिक्स, गृह मंत्री के सलाहकार और लिरोमोबा के विधायक न्यामार करबक, मुख्य सचिव धर्मेंद्र और डीजीपी सतीश गोलचा ने भी संबोधित किया। मुख्यमंत्री ने इससे पहले पुलिस वाहनों के एक बेड़े को झंडी दिखाकर रवाना किया और पुलिस विभाग के पुरस्कार विजेताओं को भी सम्मानित किया।