केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने कहा कि अरुणाचल प्रदेश में परशुराम कुंड को जल्द ही रेलवे से जोड़ा जाएगा। उन्होंने कहा कि सरकार देश के कई अन्य स्थानों की तरह ही परशुराम कुंड को रेलवे के माध्यम से देश के बाकी हिस्सों से जोड़ेगी। अमित शाह ने कहा, "हमने पूरे राज्य में सड़कों का एक नेटवर्क बिछाया है और राज्य में दूर-दराज के स्थानों को जोड़ा है।"


यह भी पढ़ें-गृहमंत्री अमित शाह ने युवाओं को सभी क्षेत्रों में सक्षम बनाने की बनायी नीति

अमित शाह ने भगवान परशुराम की 51 फुट ऊंची कांस्य प्रतिमा का भी शिलान्यास किया। उन्होंने केंद्रीय कानून मंत्री किरेन रिजिजू और सीएम पेमा खांडू के साथ नामसाई में गोल्डन पैगोडा का दौरा किया। परशुराम कुंड अरुणाचल प्रदेश के लोहित जिले में लोहित नदी की निचली पहुंच में और तेजू से 21 किमी उत्तर में ब्रह्मपुत्र पठार पर स्थित एक हिंदू तीर्थ स्थल है।

यह भी पढ़ें- केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने असम-अरुणाचल सीमा विवाद साल 2023 तक सुलझने का किया वादा


ऋषि परशुराम को समर्पित, लोकप्रिय स्थल नेपाल, भारत के साथ-साथ अन्य पूर्वोत्तर राज्यों के तीर्थयात्रियों को आकर्षित करता है। प्रत्येक वर्ष जनवरी के महीने में, 70,000 से अधिक भक्त और साधु इसके पानी में पवित्र डुबकी लगाते हैं।                                                            

                                              

                                              

पूर्वोत्तर राज्यों से जुड़े कई समस्याओं पर शाह ने कहा कि असम के बोडोलैंड क्षेत्र में उग्रवाद को बोडो शांति समझौते पर हस्ताक्षर के माध्यम से सुलझाया गया था। त्रिपुरा में उग्रवादी समूहों का आत्मसमर्पण और ब्रू शरणार्थी मुद्दे का समाधान मोदी सरकार द्वारा किया गया था। केंद्रीय गृह मंत्रालय ने असम के कार्बी आंगलोंग में शांति लाने के लिए पहल की है।

यह भी पढ़ें- केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने असम-अरुणाचल सीमा विवाद साल 2023 तक सुलझने का किया वादा

केंद्रीय गृह मंत्री ने कहा कि पूर्वोत्तर के विकास के लिए त्रिस्तरीय एजेंडा तैयार किया गया है। सबसे पहले, हम इस क्षेत्र की स्वदेशी संस्कृतियों और भाषाओं को संरक्षित और बढ़ावा देंगे। दूसरा, हम पूर्वोत्तर राज्यों के बीच सभी विवादों को खत्म करना चाहते हैं और इसे उग्रवाद से मुक्त करना चाहते हैं, और तीसरा, हम आठ राज्यों को देश में सबसे विकसित बनाना चाहते हैं।