त्रिपुरा के मुख्यमंत्री माणिक साहा ने विधानसभा में मानसून सत्र के दौरान कहा कि इस वर्ष जनवरी और फरवरी के बीच कम उम्र की 263 किशोरियों सहित कम से कम 2968 युवतियों के लापता के मामले दर्ज हैं। 

ये भी पढ़ेंः त्रिपुरा में मादक पदार्थों के मामलों की जांच के लिए बनेगी एनसीबी विंग


साहा ने कांग्रेस विधायक सुदीप रॉयबर्मन और खोवाई के माकपा विधायक निर्मल बिस्वास के एक सवाल के जवाब में कहा कि कुल लापता लोगों में से पुलिस ने आठ महीने में 2524 महिलाओं को बरामद किया, जिनमें 242 नाबालिग शामिल हैं और शेष किशोरियों का पता लगाया जा रहा है। 

ये भी पढ़ेंः त्रिपुरा के कानून मंत्री पर दुष्कर्म पीड़िता को धमकाने का आरोप, सुदीप रॉयबर्मन ने दी चेतावनी


पुलिस ने बताया कि लापता युवतियों के परिवारों ने थाने में अपहरण की शिकायत दर्ज कराई थी। बहरहाल, त्रिपुरा पुलिस को राज्य भर में मॉब लिंचिंग की चुनौती का सामना करना पड़ रहा है। यहां के लोगों का कहना है कि राज्य में चोरों और डकैती के अलावा नशीले पदार्थों, नशीली दवाओं का एक गिरोह है जो युवतियों का अपना शिकार बना रहे हैं। अपने जवाब में उन्होंने यह भी कहा कि पुलिस ने लापता होने और अपहरण की घटनाओं के सिलसिले में 254 आरोपियों को गिरफ्तार भी किया है।