जायडस कैडिला की कोरोना वैक्सीन को भारत में आपात इस्तेमाल की मंजूरी दे दी गई है। वैक्सीन को ड्रग्स कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया की ओर से मंजूरी दी गई है। 12 साल से ज्यादा उम्र के लोगों को ये वैक्सीन लगाई जा सकती है। जायडस कैडिला की कोरोना वैक्सीन का नाम ZyCoV-D है। खास बात ये है कि ये डीएनए पर आधारित दुनिया की पहली स्वदेशी वैक्सीन है। इस वैक्सीन को लगवाने में न सुई का इस्तेमाल होगा और न ही दर्द होगा।

बता दें कि ये वैक्सीन Zydus Cadila ने विकसित की है। अहमदाबाद की लैब में Zycov-D वैक्सीन बन रही है। यह पहली प्लाज्मा डीएनए वैक्सीन है। वैक्सीन में वायरस के जेनेटिक तत्वों का इस्तेमाल हुआ है। 12 साल से ज्यादा उम्र के लोगों के लिए ये वैक्सीन सुरक्षित है। इंसानों के साथ-साथ अन्य जानवरों पर भी इस वैक्सीन का ट्रायल हुआ है। वैक्सीन की प्रभाव क्षमता 66.6 प्रतिशत रही। जान लें कि ZyCov-D वैक्सीन की 3 डोज 4-4 हफ्तों के अंतराल पर दी जाएंगी। इस वैक्सीन को 2-8 डिग्री सेल्सियस तापमान पर स्टोर कर सकते हैं। हालांकि अभी इसकी कीमत के बारे में कोई ऐलान नहीं हुआ है।