लोकसभा चुनाव के नतीजे आने के बाद से कांग्रेस की मुश्किलें कम होती नजर नहीं आ रही हैं। एक ओर जहां पार्टी में अनेक स्तरों पर इस्तीफों का दौर शुरू है। वहीं कांग्रेस के गठबंधन के साथियों ने भी अब उससे हाथ छुड़ाना शुरू कर दिया है। मिजोरम की जोराम पीपल्स मूवमेंट (जेडपीएम) ने कांग्रेस से अपना नाता तोड़ लिया। बता दें कि मिजोरम की एकमात्र लोकसभा सीट के लिए कांग्रेस और जेडपीएम के संयुक्त उम्मीदवार को हालिया नतीजों में हार का सामना करना पड़ा था। 

पार्टी अध्यक्ष लल्लियानसावता ने कांग्रेस से गठबंधन तोड़ने का ऐलान करते हुए कहा कि कांग्रेस से उनका गठजोड़ मुद्दों पर आधारित था। उन्होंने कहा कि इसका मकसद नागरिकता संशोधन विधेयक के प्रस्तावित कानून के खिलाफ एनडीए विरोधी एक गठबंधन बनाना था। 

लल्लियानसावता ने कहा कि हमारे साझा उम्मीदवार संसदीय चुनाव में नहीं जीत सके। इसका जिम्मेदार कांग्रेस को बताते हुए उन्होंने एक सवाल के जवाब में कहा कि हमारे उम्मीदवार की हार का मुख्य कारण यह था कि लोगों ने कांग्रेस को खारिज कर दिया। बता दें कि पार्टी ने मिजोरम की एकमात्र लोकसभा सीट और आइजोल पश्चिम-1 विधानसभा सीट के लिए उपचुनाव को लेकर कांग्रेस के साथ गठबंधन किया था।