ईरान की राष्ट्रीय महिला फुटबॉल टीम (Iran Women Football Team) में एक खिलाड़ी को लेकर लोग चक्कर घिन्नी हो रहे हैं। कोई इस खिलाड़ी को महिला बता रहा है तो कोई पुरु। इस खिलाड़ी ने मैच के दौरान गोलकीपर की भूमिका निभाई थी। ईरान पर उसके कट्टर प्रतिद्वंद्वी जॉर्डन ने आरोप लगाया है कि ये गोलकीपर पुरूष है।

जॉर्डन फुटबॉल एसोसिएशन (Jordan Football Association) के अध्यक्ष प्रिंस अली बिन अल-हुसैन ने महिला टीम में शामिल पुरुष खिलाड़ी के 'लिंग सत्यापन' जांच की मांग की है।

32 वर्षीय ईरानी टीम की गोलकीपर ज़ोहरेह कौडेई (Zohreh Koudaei) ने 25 सितंबर को जॉर्डन के खिलाफ हुए फुटबॉल मैच में दो पेनल्टी बचाई थी। ईरानी महिला टीम ने जॉर्डन को 4-2 से हारकर एशिया कप के लिए क्वालीफाई किया। मैच के बाद जॉर्डन ने ज़ोहरेह कौडेई को 'पुरुष' बताते हुए जांच की मांग कर दी।

जॉर्डन के फुटबॉल एसोसिएशन ने गोलकीपर ज़ोहरेह के जेंडर पर सवाल खड़े करते हुए एशियाई फुटबॉल महासंघ (एएफसी) से शिकायत की है। जॉर्डन ने ज़ोहरेह के 'लिंग सत्यापन' जांच का अनुरोध करते हुए एक ट्वीट किया।

हालांकि इसके बाद एएफसी ने कहा कि 'जांच चल रही है, अभी कोई टिप्पणी नहीं करना चाहते, चाहे आरोप वास्तविक हो या संभावित.' वहीं फीफा के पूर्व उपाध्यक्ष प्रिंस अली ने कहा- 'अगर ये आरोप सच है तो बहुत गंभीर मुद्दा है'