कानपुर में लगातार जीका वायरस (Zika virus in Kanpur) के मामले बढ़ रहे हैं. शनिवार को 13 नए मामले आए, जिसके बाद कुल मामलों की संख्या 79 हो गई है. स्वास्थ्य अधिकारियों ने इसकी जानकारी दी है.

उर्सला अस्पताल के मुख्य चिकित्सा अधीक्षक डॉ अनिल निगम ने एएनआई से बात करते हुए कहा, “हमारी टीम नियमित रूप से निरीक्षण कर रही है और मच्छरों के प्रजनन बिंदुओं को नष्ट करने के लिए नगर निगम की टीमों को भी फॉगिंग के लिए तैनात किया गया है.”

स्वास्थ्य अधिकारियों ने कहा, “कानपुर में जीका वायरस का संक्रमण तेजी से फैल रहा है. ऐसे में विशेष सावधानी बरतने की जरूरत है. सभी अस्पतालों में वायरस से संक्रमित लोगों के इलाज की व्यवस्था की गई है. हर मरीज के स्वास्थ्य पर नजर रखी जा रही है. निगरानी में सुधार किया गया है.”

कानपुर में जीका वायरस के बढ़ते मामलों को देखते हुए सीएम योगी ने अधिकारियों को सैनिटाइजेशन के काम में तेजी लाने के निर्देश दिए हैं. उन्होंने कहा, “कानपुर में जीका वायरस से संक्रमण तेजी से फैल रहा है. गंभीरता को देखते हुए विशेष सावधानी बरतने की आवश्यकता है. डेंगू परीक्षण भी तेज किया जाना चाहिए. सभी अस्पतालों में व्यवस्था की जानी चाहिए. हर रोगी के स्वास्थ्य की निरंतर निगरानी की होनी चाहिए.” मुख्यमंत्री ने अधिकारियों से निगरानी समितियों का पूरा सहयोग सुनिश्चित करने को कहा.

स्वास्थ्य अधिकारियों ने कहा कि पूरे कानपुर के सरकारी अस्पतालों ने जीका वायरस रोग सहित संक्रमण के मामलों की पहचान करने के लिए अपने संक्रामक रोग नियंत्रण अभियान के तहत सतर्क और गहन निगरानी की है.

जीका एक मच्छर से होने वाला वायरस है, जो मच्छर की एक संक्रमित एडीज प्रजाति के काटने से फैलता है. यह दिन में काटता है. इस बीमारी के लक्षण हल्के बुखार, चकत्ते, मांसपेशियों और जोड़ों में दर्द, अस्वस्थता और सिरदर्द हैं.