कीव। यूक्रेन के राष्ट्रपति वलोदिमिर जेलेंस्की (Ukrainian President Volodymyr Zelensky) ने नाटो नेताओं से अपने देश पर नो-फ्लाई जोन स्थापित करने के अपने आह्वान को दोहराया है। उन्होंने चेतावनी देते हुए कहा कि यह केवल समय की बात है कि रूसी मिसाइलें भी गठबंधन के क्षेत्रों पर गिरेंगी। रविवार रात को राष्ट्रपति का यह आह्वान लविवि पर दिन में पहले हमला करने के बाद आया, जबकि यूक्रेन-पोलैंड सीमा के पास स्थित इंटरनेशनल सेंटर फॉर पीसकीपिंग एंड सिक्योरिटी की गोलाबारी में 35 लोग मारे गए और 134 अन्य घायल हो गए।

यह भी पढ़ें- BJP के चुनाव जीतने पर मुन्नवर राना ने छोड़ दिया यूपी, जानिए अब कहां गए

उक्रेइंस्का प्रावदा की रिपोर्ट के अनुसार केंद्र की गोलाबारी का जिक्र करते हुए, जेलेंस्की ने कहा कि ''वहां ऐसा कुछ नहीं हो रहा था जिससे रूसी संघ के क्षेत्र को खतरा हो। नाटो सीमा केवल 20 किलोमीटर दूर है। 'पिछले साल मैंने नाटो नेताओं को स्पष्ट रूप से चेतावनी दी थी कि अगर रूसी संघ के खिलाफ कोई कठोर निवारक प्रतिबंध नहीं थे, तो यह युद्ध में होगा। हम सही थे।'

राष्ट्रपति ने आगे कहा, 'अब मैं फिर से दोहरा रहा हूं। अगर आप हमें नो-फ्लाई जोन के साथ कवर नहीं करते हैं, तो यह केवल कुछ समय पहले की बात है जब रूसी मिसाइलें आपके क्षेत्र में नाटो क्षेत्र पर नाटो राज्यों के नागरिकों के घरों पर गिरेंगी।' नो-फ्लाई जोन हवाई क्षेत्र के किसी भी क्षेत्र को संदर्भित करता है जहां यह स्थापित किया गया है कि कुछ विमान उड़ान नहीं भर सकते हैं। अमेरिका ने यूक्रेन के ऊपर नो-फ्लाई जोन से इनकार किया है।

यह भी पढ़ें- शेन वॉर्न की मौत के बाद बड़ा खुलासा! काउंसलर ने खोले कई ऐसे राज

अमेरिका के राष्ट्रपति जो बाइडेन ने कहा कि ऐसा करने से तनाव बढ़ेगा। उन्होंने इसे 'तीसरे विश्व युद्ध' के रूप में वर्णित किया। ब्रिटेन के रक्षा सचिव बेन वालेस ने भी पुष्टि की है कि उनका देश यूके्रन पर नो-फ्लाई जोन लागू करने में मदद नहीं करेगा क्योंकि रूसी जेट से लडऩे से पूरे यूरोप में युद्ध शुरू हो जाएगा।