धेमाजी जिला जेल में बीते कल जोनाई के एक युवक की मौत से गुस्साए लोगों ने रविवार को जोनाई थाने का घेराव कर जमकर नारेबाजी की। वहीं भीड़ को तितर-बितर करने के लिए पुलिस को लाठी चार्ज करना पड़ा।


परिजनों से मिली जानकारी के अनुसार जोनाई महकमा अधीन लखी नेपाली बस्ती निवासी कमलेश सोरहिया का पुत्र अर्जुन सोरहिया उर्फ कुटीया को एक मामला के तहत धेमाजी जिला कारागार में भेजा गया था। मगर बीते 4 अगस्त को अर्जुन के परिजनों को अन्य लोगों द्वारा आत्महत्या करने की सूचना दी गई।


मगर इस संदर्भ में जेल प्रशासन द्वारा परिजनों को किसी प्रकार की सूचना नहीं दी जाने से उक्त मौत की घटना रहस्य के घेरे में आ गई। वहीं मृतक के परिजन आज धेमाजी जाकर शव को लेकर जोनाई ने आए। वहीं इस घटना से गुस्साए लोगों ने शव को लेकर जोनाई थाना का घेराव किया और पुलिस प्रशासन के विरोध में जमकर नारेबाजी की। वहीं स्थानीय पुलिस से बात-विचार के दौरान मामला इतना आगे बढ़ गया कि अंत में पुलिस को लाठी चार्ज करना पड़ा। जिसमें कुछ लोगों को हल्की चोंटे आईं।


मृतक के परिजनों ने आरोप लगाते हुए कहा कि अर्जुन के शरीर में कई जगहों पर घाव के निशान स्पष्ट रूप से देखे जा रहे थे। जिससे लगता था कि मौत से पहले उसे काफी यातनाए दी गई हैं। जिसके फलस्वरूप अर्जुन की मौत हो गई। वहीं जेल प्रशासन बचने के लिए इसे आत्महत्या का रूप देने में लगा हुआ है।