अब एक जुलार्इ से अपना 12 अंको का आधार नंबर भूलना होगा। आधार जारी करने वाली संस्था भारतीय विशिष्ट पहचान प्राधिकरण (यूआर्इडीएआर्इ) ने इसके लिए एक जुलार्इ से  लागू को करने के लिए नोटिफिकेशन जारी कर दिया है। यूआर्इडीएफ ने ट्विटर पर अपनी पोस्ट में कहा कि नर्इ सुविधा आधार धारकों को बिना सत्यापन की प्रक्रिया में अपना असली 12 अंको का आधार नंबर दिए बिना वीआर्इडी नंबर देने की इजाजत देगी।

तीन स्टेप फाॅलो करके जेनेरेट करें वर्चुअल आधार नंबर

अगर आपको डर है कि 12 अंकों का नंबर देने से पर्सनल जानकारी लीक हो सकती है, तो घबराने की जरूरत नहीं है। अब आप घर बैठे सिर्फ तीन आसान स्टेप को फाॅलो करके अपना 16 अंको वाला वर्चुअल आधार नंबर जेनेरट कर सकेंगे।

क्या होगा फायदा

इस वर्चुअल नंबर को जेनरेट करने के बाद आपको अपना ओरिजनल आधार नंबर

किसी भी थर्ड पार्टी को नहीं देना होगा। आप इस वर्चुअल नंबर का प्रयोग बैंक

अकाउंट खोलने, सरकारी सब्सिडी के लिए, तत्काल पासपोर्ट बनवाने के लिए व

नयी इन्श्योरेंस पॉलिसी खरीदने के लिए कर सकते हैं ।

एेसे करें अप्लार्इ

सबसे पहले आपको आधार की वेबसाइट https://uidai.gov.in/ पर जाना होगा। इसके बाद होम पेज पर नीचे की तरफ आधार सर्विस टैब के अंदर वीअार्इडी जेनेरेटर आॅप्शन पर क्लिक करना होगा। क्लिक करने के बाद आपको अपना आधार नंबर, कैप्चा कोड फीड करना होगा अौर सेंड आेटीपी कोड आएगा। आेटीपी सबमिट करने के बाद आपके पास दो तरह के आॅप्शन आएंगे। पहला नर्इ वीआर्इडी को रिट्राइव करने के लिए। आप दोनों में से किसी भी आॅप्शन को क्लिक कर सकते हैं। इसके बाद आपके रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर पर वीआर्इडी कोड एसएमएस के जरिए पहुंच जाएगा।


क्या होती है VID?

आधार वर्चुअल आईडी एक तरह का टेंपररी नंबर है। यह 16 अंकों का नंबर होता है। अगर इसे आधार का क्लोन कहा जाए तो यह गलत नहीं होगा. इसमें कुछ ही डिटेल होंगी।UIDAI यूजर्स को हर आधार का एक वर्चुअल आईडी तैयार करने का मौका देगा। अगर किसी को कहीं अपने आधार की डिटेल देनी है तो वो 12 अंकों के आधार नंबर की जगह 16 अंकों का वर्चुअल आईडी दे सकता है।