नई दिल्ली। आजकल हर घर में डियोड्रेंट का यूज होता है ताकि गर्मियों में शरीर से आने वाली दुर्गंध को दूर भगाया जा सके। लेकिन क्या कोई डियोड्रेंट किसी की मौत की वजह बन सकता है। एक लड़की जो अपने घर के फ्लोर पर मृत पाई गई थी उसके हाथ में डियोड्रेंट मिला है और माना जा रहा है कि इसे सूंघने के बाद ही उसकी जान चली गई।


यह भी पढ़ें : 2023 चुनाव की तैयारियों जुटी पार्टियां, UDP में 7 विधायक शामिल होने की संभावना


एक रिपोर्ट के अनुसार यह रहस्यमयी मामला ऑस्ट्रेलिया के न्यू साउथ वेल्स का है। ब्रोकन हिल्स में रहने वाली 16 साल की लड़की ब्रूक रयान का शव घर के फर्श पर पड़ा मिला था। उसके हाथ में डियोड्रेंट की केन थी और माना जा रहा है कि उसने एरोसोल को सूंघा था।

फर्श पर पड़े हुए शव के पास से डियोड्रेंट और एक तौलिया मिला है। लड़की एक प्रतिभाशाली एथलीट थी और 'क्रोमिंग' नाम की एक जानलेना एक्टिविटी के बाद एरोसोल को सूंघने से संदिग्ध हालात में उसकी मौत हो गई। माना जा रहा है कि उसे दिल का दौरा पड़ा था।

ऑस्ट्रेलिया के एक स्कूल टीचर ने पहले ऐसी किसी परिस्थिति पर रोक लगाने के मकसद से डियोड्रेंट की बिक्री पर प्रतिबंध लगाने की मांग की थी। मृतका की मां ऐनी रयान ने अन्य परिजनों को इसके खतरों के बारे में चेतावनी देने के लिए मदर्स डे के मौके पर अपनी बेटी की मौत के बारे में जानकारी दी है और बताया कि फरवरी के महीने में उसकी बेटी के साथ यह हादसा हुआ था।

रयान ने सिडनी मॉर्निंग हेराल्ड से कहा, 'मैं जागती हूं, मैं उसके बारे में सोचती हूं, मैं सो जाती हूं और उसके बारे में सोचती हूं, हर दिन एक बुरा सपना होता है। वह गोल्डन हार्ट वाली एक खूबसूरत लड़की थी, जिसे बहुत याद किया जाता है और उसकी मौत से इतने सारे लोगों पर नेगेटिव इफेक्ट पड़ा है।

यह भी पढ़ें : अरुणाचल में शहीद हुए सूबेदार हरदीप सिंह, अब पंजाब सरकार परिवार को देगी एक करोड़ रुपए

मृतक लड़की की मां का मानना ​​है कि उनकी बेटी की मौत अचानक सूंघने की बीमारी से हुई है, हालांकि कोरोनर की रिपोर्ट अभी जारी नहीं हुई है। ऐनी ने कहा कि ब्रूक चिंता से जूझ रही थी, खासकर महामारी के दौरान, हालांकि वह अपने सामने आने वाली चुनौतियों से पार पाने के लिए मजबूत थी।

लड़की बड़ी होने पर वकील, फिजियोथेरेपिस्ट या ब्यूटीशियन बनना चाहती थी। लेकिन अचानक हुए हादसे ने उसकी जान ले ली। इनहेलेंट (Inhalant) के बारे में चेतावनी देते हुए रयान ने बताया कि युवाओं को इनहेलेंट के जोखिम के बारे में सिखाने की जरूरत है और डियोड्रेंट के केन पर लेबल लगा कर एरोसोल लेने के जोखिमों को साफ तौर पर लिखा जाना चाहिए।