हमारे सौरमंडल में सैकड़ों ग्रह मौजूद हैं लेकिन इंसान  या वैज्ञानिक अब तक सिर्फ आठ ग्रहों का ही पता लगा पाए हैं. इसीलिए दुनियाभर के सैकड़ों वैज्ञानिक इन ग्रहों के बारे में ज्यादा से ज्यादा जानकारी हासिल करने की कोशिश कर रहे है. जिस पर हर साल अलग-अलग देश लाखों-करोड़ों डॉलर खर्च कर रहे हैं. आसमान हमारे और इंसानी सभ्यता के लिए हमेशा से रहस्यों भरा रहा है. जिसके सभी रहस्यों को जान पाना इंसान के बस की बात नहीं है.

हर साल सूर्य ग्रहण और चंद्र ग्रहण ऐसे ही रहस्य हैं. सोमवार यानी 21 दिसंबर 2020 को आसमान में आपको एक ऐसा नजारा देखने को मिलेगा, जिसे आपने अपनी जिंदगी में कभी नहीं देखा होगा. क्योंकि ऐसा नजारा 800 साल बाद एक बार फिर से आसमान में देखने को मिलेगा. दरअसल, सोमवार को सौरमंडल के दो सबसे बड़े ग्रह बृहस्पति और शनि एक दूसरे के बेहद नजदीक दिखाई देंगे.

इसे सौरमंडल में बड़ी खगोलीय घटना के तौर पर देखा जा रहा है. कल यानी सोमवार को जब आप धरती से आसमान की ओर देखेंगे तब ये दोनों ग्रह एक ही समान दिखेंगे, क्योंकि इनके बीच की दूरी कल सोमवार को सबसे कम होगी.

बता दें कि ये दोनों ग्रह इससे पहले 17वीं शताब्दी में महान खगोलविद गैलीलियो के जीवनकाल में इतने पास आए थे. इसे क्रिसमस स्टार या स्टार ऑफ बैथलहम का नाम से भी जाना जाता है.