नई दिल्ली. रेल का सफर करने के लिए किराया देना पड़ता है  लेकिन एक ऐसी भी ट्रेन है, जिसमें आप बिना किराया दिए यात्रा कर सकते हैं। ये ट्रेन चलती है भाखड़ा-नागल बांध देखने वालों के लिए। आइए जानते हैं इस ट्रेन के बारे में और समझते हैं कि क्यों इसमें यात्रा करने के लिए कोई किराया नहीं चुकाना पड़ता है।

यह भी पढ़े : MNS प्रमुख राज ठाकरे ने कहा - लाउडस्पीकर हटने तक जारी रहेगा आंदोलन, ऐसे ही चलती रहेगी हनुमान चालीसा


यह ट्रेन नागल और भाखड़ा के बीच चलती है। यह हिमाचल प्रदेश और पंजाब के बॉर्डर पर चलती है। भाखड़ा नागल बांध देखने जाने वाले लोग इस ट्रेन में मुफ्त यात्रा का फायदा उठा सकते हैं। इस ट्रेन की सबसे खास बात यह है कि इसके कोच लकड़ी के बने हैं और इसमें कोई टीटी नहीं होता है। यह ट्रेन डीजल इंजन पर चलती है, जिसमें हर रोज 50 लीटर डीजल खर्च होता है। पहले इस ट्रेन में 10 बोगियां होती थीं, लेकिन अब सिर्फ 3 बोगियां हैं। साथ ही इसमें एक बोगी पर्यटकों के लिए और एक बोगी महिलाओं के लिए आरक्षित है।

यह भी पढ़े : सलमान खान की ईद पार्टी में पहुंची कंगना रनौत, लोगों ने कर दिया ट्रोल , कह दी इतनी बड़ी बात 


इस ट्रेन में मुफ्त यात्रा इसलिए कराई जाती है, ताकि लोग भागड़ा डैम को देख सकें। आज की पीढ़ी भाखड़ा नागल डैम को देखे और समझे कि इसे बनाने में कितनी दिक्कतों का सामना करना पड़ा। भाखड़ा ब्यास मैनेजमेंट बोर्ड के जरिए ही इस ट्रेन का संचालन किया जाता है। इस ट्रेन को चलाने के लिए जो रास्ता बनाया गया है, उसे पहाड़ों को काटकर बनाया गया था और ट्रैक बिछाया गया था।

यह भी पढ़े : नमाज के वक्त लाउडस्पीकर पर चली हनुमान चालीसा, मनसे कार्यकर्ताओं ने लाउडस्पीकर पर बजाई हनुमान चालीसा


यह ट्रेन करीब 73 साल पहले 1949 में पहली बार चली थी। इसके जरिए 25 गांव के करीब 300 लोग रोज मुफ्त में सफर करते हैं। स्कूल-कॉलेज में पढ़ने वाले बच्चों को इस ट्रेन से सबसे ज्यादा फायदा होता है। इसके जरिए भाखड़ा के आसपास के गांव बरमला, ओलिंडा, नेहला भाखड़ा, हंडोला, स्वामीपुर, खेड़ा बाग, कालाकुंड, नंगल, सलांगड़ी सहित तमाम जगहों के लोग यात्रा करते हैं।