उत्तर प्रदेश में विधानसभा चुनावों (Assembly elections in Uttar Pradesh) में करीब दो तिहाई बहुमत से जीत हासिल करने के बाद राज्य के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (Chief Minister Yogi Adityanath) ने रविवार को यहां प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी (Prime Minister Narendra Modi) सहित भारतीय जनता पार्टी के शीर्ष नेतृत्व से मुलाकात की और नई सरकार के गठन एवं स्वरूप को लेकर विचार विमर्श किया। योगी आदित्यनाथ आज दोपहर गाजियाबाद के हिंडन हवाईअड्डे पर पहुंचे और वहां से दिल्ली में भाजपा के राष्ट्रीय संगठन महामंत्री बी एल संतोष से मिलने उनके नौ अशोक रोड स्थित आवास पर पहुंचे। इसके बाद तीन बजे उपराष्ट्रपति एम वेंकैया नायडु से भेंट की। 

यह भी पढ़ें- BJP के चुनाव जीतने पर मुन्नवर राना ने छोड़ दिया यूपी, जानिए अब कहां गए

उसके बाद वह प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी से मिलने उनके सात लोक कल्याण मार्ग स्थित आवास पर पहुंचे। मोदी और योगी आदित्यनाथ के बीच मुलाकात डेढ़ घंटे से अधिक चली। योगी आदित्यनाथ ने श्री मोदी को नई सरकार के शपथ ग्रहण के अवसर पर लखनऊ आने के लिए निमंत्रित भी किया। प्रधानमंत्री से मिलने के तुरंत बाद उनकी भेंट भाजपा के अध्यक्ष जगत प्रकाश नड्डा और फिर रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह से हुई। रात में वह केन्द्रीय गृह मंत्री अमित शाह से मिलने पहुंचे। राज्य विधानसभा चुनाव में 37 साल पुराना रिकॉर्ड तोड़ते हुए भाजपा ने लगातार दूसरी बार दो तिहाई बहुमत से जीत हासिल की है। 

हालांकि उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य समेत 11 मंत्री पराजित हो गये हैं। योगी आदित्यनाथ की इस यात्रा का उद्देश्य राष्ट्रीय नेतृत्व के साथ नयी सरकार के गठन एवं स्वरूप को लेकर फैसला करना है। शाह के साथ रात में लंबी बैठक में सरकार के स्वरूप को लेकर चर्चा होनी है। जानकारों का कहना है कि नयी सरकार का शपथ ग्रहण होली के बाद होने की संभावना है। नई सरकार में जातीय एवं क्षेत्रीय संतुलन बिठाने की कवायद होगी। ऐसी भी चर्चा है कि इस बार चार उपमुख्यमंत्री बनाये जाने का विचार है जो राज्य के विभिन्न हिस्सों का प्रतिनिधित्व करते हों। उपमुख्यमंत्री पद के लिए ब्राह्मण नेता के रूप में बृजेश पाठक अथवा मथुरा से निर्वाचित श्रीकांत शर्मा, पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष एवं कुर्मी नेता स्वतंत्र देव सिंह और आगरा से चुनाव जीतीं जाटव समाज की श्रीमती बेबी रानी मौर्य का नाम प्रमुखता से लिया जा रहा है। 

यह भी पढ़ें- शेन वॉर्न की मौत के बाद बड़ा खुलासा! काउंसलर ने खोले कई ऐसे राज

चूंकि केशव प्रसाद मौर्य पार्टी में अन्य पिछड़े वर्ग के एक बड़े नेता हैं, उन्हें भी पुन: उपमुख्यमंत्री बनाया जा सकता है। मंत्रियों के रूप में सतीश महाना एवं सुरेश खन्ना जैसे दिग्गज भी फिर चुनाव जीतकर विधानसभा पहुंचे हैं। सतीश महाना ने आठवीं बार विधानसभा चुनाव जीता है जबकि सुरेश खन्ना शाहजहांपुर से रिकॉर्ड 9वीं बार चुनाव जीत विधायक बने हैं। नोएडा से 1.81 लाख से ज्यादा वोटों से विजयी हुए पंकज सिंह, बुन्देलखंड में वरिष्ठतम विधायक झांसी नगर से लगातार तीसरी बार निर्वाचित रवि शर्मा अथवा महोबा से विधायक राकेश गोस्वामी का नाम भी संभावित मंत्रियों के रूप में लिया जा रहा है।