योगी सरकार में मंत्रिमंडल विस्तार सितंबर के पहले सप्ताह में हो सकता है।  सूत्रों से म‍िली जानकारी के अनुसार, संभावित मंत्रियों के नाम शनिवार को सामने आए हैं।  जिनको मंत्रिमंडल में जगह मिल सकती है।  

कांग्रेस से बीजेपी में शामिल हुए जितिन प्रसाद का मंत्री बनाया जा सकता है।  इनके अलावा मेरठ से सोमेंद्र तोमर, फतेहपुर से कृष्णा पासवान, गाजियाबाद के दादरी से तेजपाल गुर्जर, निषाद पार्टी से संजय निषाद, रामचंद्र विश्वकर्मा, मंजू सिवाच मोदीनगर और अपना दल से आशीष पटेल को योगी मंत्रिमंडल में जगह मिल सकती हैं। 

बीते दिनों यूपी बीजेपी ने सीएम योगी आदित्यनाथ के साथ बैठकर नामों पर चर्चा की और उसे दिल्ली हाईकमान के पास भेज दिया गया था।  उन नामों पर दिल्ली हाईकमान ने मुहर लगा दी है।  बैठक में इन नेताओं के अलावा उत्तर प्रदेश भाजपा के अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह और संगठन महामंत्री सुनील बंसल भी उपस्थित थे।  यह बैठक शाह के आधिकारिक आवास पर हुई थी।  सारी रणनीति 2022 के विधानसभा चुनाव को देखते हुए तैयार की गई है। 

फिलहाल योगी मंत्रिमंडल में 23 कैबिनेट मंत्री, 9 स्वतंत्र प्रभार मंत्री और 22 राज्यमंत्री हैं, यानी मंत्रियों की संख्या कुल 54 है।  नियमों के मुताबिक, अभी 6 मंत्री पद खाली हैं।  ऐसे में योगी सरकार अगर कैबिनेट से किसी भी मंत्री को नहीं हटाती है तो भी 6 नए मंत्री बनाए जा सकते हैं।  इसमें ओबीसी, ब्राह्मण के साथ ही अन्य जातियों को साधने की कोशिश हो सकती है। 

प्रदेश सरकार के 19 मार्च 2017 को गठन के बाद योगी सरकार ने 22 अगस्त 2019 को मंत्रिमंडल विस्तार किया था।  उस दौरान उनके मंत्रिमंडल में 56 सदस्य थे।  कोरोना के चलते तीन मंत्रियों का निधन हो चुका है।  

हाल ही में राज्यमंत्री विजय कुमार कश्यप की मौत हो गई थी, जबकि कोरोना की पहली लहर में मंत्री चेतन चौहान और मंत्री कमल रानी वरुण का निधन हो गया था।  पहले मंत्रिमंडल विस्तार में 6 स्वतंत्र प्रभार मंत्रियों को कैबिनेट की शपथ दिलाई गई थी, इसमें तीन नए चेहरे भी थे।