उत्तर प्रदेश के सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा कि देश के इतिहास में पहली बार राष्ट्रपति आयोध्या आए और रामलला का दर्शन किए। प्रधानमंत्री के रूप में मोदी पहले ऐसे पीएम हैं जिन्होंने रामलला का दर्शन किया है। पहले की सरकारें डरती थीं कि कहीं मंदिर जाने पर लोग हमें सांप्रदायिक न कह दें, पर अब वही कहते हैं कि राम हमारे भी हैं, कृष्ण हमारे भी हैं।

मथुरा में सोमवार को आयोजित ''श्रीकृष्णोत्सव 2021'' में संबोधन देते हुए उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि - हम यहां के सांस्कृति विरासत को बनाए रखें क्योंकि वो हमारी पहचान है। देश के प्रधानमंत्री ने देश को एक नई दिशा दी है। आज एक-एक करके आस्था के केंद्र फिर से अपने नए रूप से सामने आ रहे हैं। अयोध्या में भगवान राम के भव्य मंदिर के निर्माण का कार्य प्रधानमंत्री के कर कमलों से प्रारंभ हो चुका है। 

आज अयोध्या नई अयोध्या बन रही है। कल हम लोग राष्ट्रपति जी के साथ अयोध्या में थे। आजादी के बाद पहले राष्ट्रपति अयोध्या आए हैं जिन्होंने रामलला का दर्शन किया है। भारत की आध्यात्मिक और सांस्कृतिक विरासत के प्रतीकों की पूजा करने और दर्शन करने में भी इससे पहले की सरकारों को भय होता था कि कहीं सांप्रदायिकता का लेपन न लग जाए।