योगी आदित्यनाथ के शपथ ग्रहण से पहले ही प्रदेश के मदरसा शिक्षा की गुणवत्ता बढ़ाने व भ्रष्टाचार पर अंकुश लगाने के लिए मदरसा बोर्ड ने कई सख्त कदम उठाए हैं. उत्तर प्रदेश मदरसा शिक्षा परिषद की बैठक में इस क्रम में कई ऐतिहासिक निर्णय लिए गए. नए सत्र से अब प्रदेश के सभी अनुदानित और गैर अनुदानित मदरसों में दुआ के साथ राष्ट्रगान (जन-गण-मन) का गायन अनिवार्य किया गया है. छात्र और शिक्षक साथ मिलकर राष्ट्रगान गाएंगे.

यह भी पढ़े : दूसरी बार मुख्यमंत्री पद की शपथ लेते ही योगी आदित्यनाथ ने गरीबों के लिए कर दिया बड़ा काम , जानिए


परिषद ने गुरुवार को अपनी बैठक में मदरसा शिक्षा के सुधार को लेकर कई अहम फैसले लिए. मदरसों में शिक्षकों की नियुक्ति टीईटी के तर्ज पर MTET के माध्यम से किए जाने का निर्णय लिया गया. शिक्षकों की उपस्थिति समयानुसार सुनिश्चित करने के लिए बायोमैट्रिक सिस्टम लागू किया जाएगा. इतना ही नहीं मदरसों में छात्रों की संख्या कम होने पर अन्य मदरसों में शिक्षकों का समायोजन किया जाएगा.

यह भी पढ़े : देवगुरु बृहस्पति आज से होंगे उदित, इन राशि वालों के अच्छे दिन भी शुरू हो जाएंगे, भाग्योदय होने जा रहा


बैठक में मुंशी-मौलवी, आलिम, कामिल और फाजिल की परीक्षाएं 14 से 27 मई के बीच कराने का भी निर्णय लिया गया. 20 मई के बाद माध्यमिक शिक्षा परिषद के विद्यालयों में गर्मी की छुट्टियों और यूपी बोर्ड उत्तर पुस्तिका मूल्यांकन की वजह कॉलेजों के खाली न होने पर मदरसा बोर्ड की परीक्षाएं मदरसों में कराई जाएगी. यह निर्णय गुरुवार मदरसा बोर्ड के अध्यक्ष इफ्तिखार अहमद जावेद की अध्यक्षता में बैठक में लिया गया.

यह भी पढ़े : Horoscope 26 March: शनि की टेढ़ी नजर बचकर रहें इन राशियों के लोग , संभलकर चले , इस रंग की वस्‍तु रखें पास


इसके अलावा मदरसों में दीनी पाठ्यक्रमों के साथ-साथ हिंदी, अंग्रेजी, गणित, विज्ञान आदि के विषयों में भी परीक्षा होगी. यानी की मदरसा बोर्ड की परीक्षाओं में अब 6 प्रश्न पत्र होंगे. साथ ही समय-समय पर सर्वे कराकर पता लगाया जाएगा कि मदरसा शिक्षकों के बच्चे मदरसों में ही पढ़ते हैं या अन्य स्कूलों में.