नई दिल्ली। बचपन में अक्सर लोगों के दिमाग में एक पश्न चलता रहता है कि आखिर दुनिया का आखिरी छोर कहां पर है और कहीं तो ये दुनिया खत्म होती होगी। हालांकि, बड़े होने के साथ सबको इस सवाल का जवाब मिल जाता है। जी हां, अब आपको चौंकने की जरूरत नहीं क्योंकि हम आपको दुनिया की एक ऐसी सड़क के बारे में बता रहे हैं जिसको आखिरी सड़क कहा जाता है। इसका मतलब है कि इस सड़क के आगे दुनिया खत्म हो जाती है। इस सड़क को E-69 नाम से जाना जाता है। इसे दुनिया का सबसे अंतिम छोर माना गया है। यह सड़क नॉर्वे में पड़ती है, जिसके बारे में कहा जाता है कि इस देश में महज 40 मिनट की रात होती है।

यह भी पढ़ें : रेलवे पूर्वोत्तर के बाढ़ प्रभावित राज्यों में राहत सामग्री मुफ्त में पहुंचाएगा

पृथ्वी का सबसे सुदूर बिंदु उत्तरी ध्रुव है। यहीं पर पृथ्वी की धुरी घूमती है। यहां नॉर्वे देश पड़ता है। यहां से आगे जाने वाली सड़क को ही दुनिया की सबसे आखिरी सड़क कहा जाता है। इस सड़क के आगे अन्य कोई सड़क नहीं है। इसके आगे बर्फ और समुद्र मौजूद है।

E-69 सड़क की लंबाई 14 किलोमीटर है। इस पर अकेले पैदल चलना या अकेले गाड़ी चलाना पूरी तरह से बैन है। इस सड़क पर कई किलोमीटर तक बर्फ की मोटी चादर बिछी रहती है, जिससे हर समय यहां पर एक्सीडेंट का खतरा बना रहता है। यह सड़क उत्तरी ध्रुव के पास है। इस वजह से सर्दियों के मौसम में केवल रात ही होती है। कभी-कभी तो यहां छह महीने तक लगातार सूरज दिखाई नहीं देता है। यहां पर सर्दियों में तापमान माइनस 43 डिग्री तक पहुंच जाता है।

यह भी पढ़ें : मिजोरम प्रेस्बिटेरियन चर्च ने असम बाढ़ प्रभावित लोगों के लिए 8 लाख दिए

यह सड़क उत्तरी ध्रुव के पास है। इस वजह से सर्दियों के मौसम में केवल रात ही होती है। कभी-कभी तो यहां छह महीने तक लगातार सूरज दिखाई नहीं देता है। यहां पर सर्दियों में तापमान माइनस 43 डिग्री तक पहुंच जाता है।