विश्व उपभोक्ता अधिकार दिवस 2022 के मौके पर देश के पहले बहुभाषी माइक्रो-ब्लॉगिंग प्लेटफॉर्म कू ऐप (Koo App) ने एक शानदार पहल की है। कू ऐप ने उपभोक्ता अधिकारों के व्यापक परिप्रेक्ष्य के रूप में सोशल मीडिया पर यूजर्स की सुरक्षा और गोपनीयता के महत्व को फिर से याद दिलाया है। एक पारदर्शी और जिम्मेदार सोशल मीडिया मध्यवर्ती के रूप में कू ऐप ने सोशल मीडिया यूजर्स को सशक्त बनाने, रचनात्मकता को बढ़ावा देने और एक सकारात्मक और प्रगतिशील डिजिटल इको सिस्टम के निर्माण में यूजर्स की गोपनीयता और सुरक्षा की महत्वपूर्ण भूमिका पर जोर दिया है।

यह भी पढ़े : सिब्बल बोले - गांधी परिवार को अब कांग्रेस की लीडरशिप छोड़ देनी चाहिए , किसी और को मौका देकर देखिए

कू ऐप पर इसकी नीतियों को बताने वाले आधिकारिक हैंडल @KooPolicy के जरिये एक पोस्ट करते हुए देसी सोशल मीडिया मंच ने यूजर्स को उनके गोपनीयता और सुरक्षा अधिकारों को जानने के बारे में याद दिलाया है।

कू की पारदर्शी गोपनीयता नीति प्लेटफॉर्म पर चर्चा के दौरान यूजर्स को कौन से अधिकार मिले हुए हैं, इनके बारे में जानकारी देती है। इन अधिकारों में यूजर्स के बारे में जानकारी पाने का अधिकार, सटीकता सुनिश्चित करने के लिए इस जानकारी को सुधारने, अपडेट करने या संशोधित करने का अधिकार और अपर्याप्त या अनावश्यक होने पर व्यक्तिगत जानकारी को रद्द करने या मिटाने का अधिकार समेत अन्य प्रमुख अधिकार शामिल हैं।

यह भी पढ़े : पुणे के इस मेट्रो स्टेशन का नाम लेने में भी आती है शर्म , अब नाम बदलने की उठी मांग , जानिए नाम

इस बीच, यूजर्स की ऑनलाइन सावधानी और सुरक्षा बढ़ाने के लिए कू ऐप ने सामुदायिक दिशानिर्देशों और सामग्री मॉडरेशन गाइड को पुख्ता ढंग से तैयार किया है। ये दिशानिर्देश और गाइड भारतीय लोकनीति से जुड़ी होने के साथ क्रिएटर्स और सोशल मीडिया का पहली बार इस्तेमाल करने वाले यूजर्स को ऑनलाइन क्या स्वीकृत या प्रतिबंधित है, की जानकारी देकर ज्यादा बेहतर सामग्री बनाने में सशक्त बनाता है।

इसके अलावा चूंकि शिकायत निवारण यूजर्स अधिकारों का एक और महत्वपूर्ण पहलू है, जिसके लिए कू ऐप के पास मजबूत सिस्टम हैं जिनमें एक स्थानीय शिकायत अधिकारी, नोडल अधिकारी और अनुपालन अधिकारी शामिल हैं, जो उठाए गए मामलों के त्वरित निपटारे की दिशा में काम करते हैं। यूजर्स इसके समाधान के लिए अपनी शिकायत[email protected] या [email protected] पर भेज सकते हैं। इसके साथ ही विभिन्न विषयों पर रिपोर्टिंग और निवारण के विकल्पों को देखने के लिए रिसोर्स सेंटर पर रिपोर्टिंग और निवारण फॉर्म पेज पर भी जा सकते हैं।

देसी भारतीय भाषाओं में आत्म-अभिव्यक्ति के लिए सबसे बड़े मंच के रूप में कू ऐप अब तक 2 करोड़ से ज्यादा बार डाउनलोड किया जा चुका है। यह मंच ऑनलाइन सावधानी बरतने और सुरक्षित रहने के लिए यूजर्स की सुरक्षा और उन्हें संवेदनशील बनाने के लिए नियमित रूप से पहल करता है।