कोरोना वायरस के इस दौर में हाल ही मां बनी या बनने वाली मताओं के मन में कई तरह के सवाल आते हैं। उन सभी में सबसे प्रमुख यह है कि क्या कोरोना पॉजिटिव मां अपने बच्चे को दूध पिला सकती है या नहीं। ऐसे में हम आपको ब्रेस्ट फीडिंग वीक के मौके पर इन सवालों के जवाब देने वाले हैं। विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने अप्रैल 2021 में इस बारे में जानकारी देते हुए बताया था कि अगर कोई मां कोविड-19 से ग्रसित है फिर भी वह अपने बच्चे को ब्रेस्टफीडिंग करा सकती है।

WHO ने विषय पर जानकारी देते हुए बताया था कि इस बात के कोई सबूत नहीं मिले है कि भ्रूण में इस वायरस का संक्रमण पहुंचता है। लेकिन मां को अपने बच्चे को दूध पिलाने के बाद कोरोना नियमों का पालन जरूर करना चाहिए। बच्चे को दूध पिलाने के बाद मां को कम से कम 6 फिट की दूरी जरूर रखनी चाहिए। कोरोना वैक्सीन के मुद्दे पर भी सरकार और डॉक्टरों की यही राय है कि ब्रेस्ट फीडिंग कराने वाली माएं और प्रेग्नेंट महिलाएं भी कोरोना का टीका ले सकती हैं।

डॉक्टरों ने स्तनपान कराने वाली महिलाओं को यह सलाह दी है कि वह जब भी शिशु को स्तनपान कराएं उस समय कई सावधानी बरतें। स्तनपान कराने से पहले अपने हाथ अच्छे से धोएं, फेस शील्ड, मास्क जैसे सुरक्षात्मक गियर पहनकर ही बच्चे को दूध पिलाएं। सैनिटाइजर (Sanitizer) का भी इस्तेमाल करें ताकि संक्रमण को रोका जा सके। आपको बता दें कि ब्रेस्ट फीडिंग से बच्चे और मां दोनों को बहुत लाभ मिलता है। मां का दूध पीने से बच्चे की रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है और मां को डिप्रेशन और कई तरह की बीमारियों को दूर रहती है।