भीषण चक्रवाती तूफान के बीच ओडिशा के केंद्रपाड़ा में एक गर्भवती महिला ने अग्निशमन विभाग के वाहन में बच्चे को जन्म दिया। जच्चा और बच्चा दोनों सुरक्षित हैं। दमकलकर्मियों की ओर से इस दौरान किए गए उपायों की जमकर सराहना की जा रही है। 

अम्फान तूफान के बीच गर्भवती महिला को एक दमकल वाहन में शरण मिली, जहां उसने एक बालिका को जन्म दिया। बाद में उसे पास के महाकालपाड़ा सीएचसी में भर्ती कराया गया। मंडल वन अधिकारी पी के दास के मुताबिक महाकालपाड़ा अग्निशमन कर्मियों को सूचना मिली कि 20 वर्षीय गर्भवती युवती जानकी सेठी की हालत गंभीर है। परिवार के सदस्य एंबुलेंस सेवा से संपर्क करने की कोशिश कर रहे थे लेकिन भीषण अम्फान तूफान के कारण पेड़ों के कटकर सडक़ पर गिरने के कारण आवागमन मार्ग बाधित हो चुका था, ऐसे में किसी एंबुलेंस का उनके घर तक पहुंचना नामुमकिन था। 

इस बीच गर्भवती युवती की रक्षा एवं बचाव करने दमकल की दो टीमें उसके घर पहुंची। दमकल कर्मियों ने तेज हवा और मूसलाधार बारिश के बावजूद आरी की मदद से सडक़ पर उखड़ कर गिरे 22 पेड़ों को हटाया। युवती को असहनीय पीड़ा के बीच दमकलकर्मियों ने जोखिम उठाते हुए उसे उसके घर से बाहर निकाला और अस्पताल की ओर बढ़ चले। महाकालपाड़ा सामुदायिक चिकित्सा केंद्र में पहुंचने से पहले ही युवती ने दमकल वाहन में ही बालिका को जन्म दिया। इस दौरान दमकलकर्मियों ने भी युवती की हरसंभव मदद करके एक बेहतर नजीर पेश की। स्थानीय लोगों ने अग्निशमन कर्मियों की दो बहुमूल्य जीवन बचाने में मानवीय पहल एवं बेहतर भूमिका निभाने के लिए प्रशंसा की एवं सराहना की है।