नई दिल्ली। एक कहावत है कि वक्त के पास इतनी ताकत होती है कि वह कुछ भी दिखा सकता है। यह कहावत इन दिनों चरितार्थ हो रही है जिसके बारे में जानकर हर कसी के चेहरे पर मुस्कुराहट आ रही है। एक महिला ने करीब 23 साल पहले एक रिफ्यूजी लड़की को कुछ पैसे देकर उसकी मदद की थी। फिर अचानक कुछ ऐसा हुआ कि वही लड़की उस महिला से 23 साल बाद मिली तो महिला की खुशी का ठिकाना नहीं रहा।

यह भी पढ़ें : पुलिस हिरासत में एक व्यक्ति की मौत के बाद थानेदार निलंबित, मृतक की पत्नी को सरकारी नौकरी का आश्वासन

यह घटना 23 साल पहले यूगोस्लाविया से अमेरिका जाने वाले एक हवाई जहाज की है। सीएनएन ने अपनी एक रिपोर्ट में इसके बारे में विस्तार से बताते हुए लिखा कि ट्रेसी नामक महिला ने प्लेन में एक रिफ्यूजी लड़की को देखा, उस लड़की के साथ उसकी एक छोटी बहन भी थी। लड़की का नाम अयदा है। महिला ने लड़की की हालत को देखा तो उसे एक लिफाफा दिया और कहा कि प्लेन के रुकने के बाद इसे खोलना।

उस लिफाफे में लड़की के लिए कुछ शब्द लिखे गए थे और उसमे सौ डॉलर की मदद भी महिला की रखी गई थी। लड़की ने पैसे तो अमेरिका में अपने खर्चे के लिए लगा लिए थे लेकिन उसने महिला द्वारा लिखे उस पर्चे को संभाल कर रख लिया था। वह लड़की यूगोस्लाविया से भागकर अपनी बहन के साथ अमेरिका एक रिफ्यूजी के रूप में आई थी। अब वह बड़ी हो गई और करीब 34 साल की हो गई।

रिपोर्ट के मुताबिक ट्रेसी का लिखा हुआ पत्र किसी तरह सोशल मीडिया पर वायरल हो गया और फिर कुछ ही समय में यह पत्र ट्रेसी तक पहुंच भी गया। इसके बाद अयदा ने ट्रेसी से संपर्क किया। असल में यह पत्र अयदा ने खुद वायरल किया था। अयदा इस महिला को खोजकर उसका धन्यवाद करना चाहती थी। जब ट्रेसी को पता चला कि अयदा उन्हें खोज रही हैं तो उन्हें खुशी हुई। बाद में उनकी मुलाकात जूम कॉल पर हुई। 

यह भी पढ़ें : मिजोरम एमएडीसी चुनावः भाजपा ने आचार संहिता के उल्लंघन की शिकायत दर्ज कराई

इस दौरान अयदा की वह बहन भी मौजूद थी जो उस समय उसके साथ थी। तीनों ने एक दूसरे खूब सारी बात की। ट्रेसी ने बताया कि उन्हें इस बात की उम्मीद नहीं थी कि वो उन्हें खोज रही होंगी। दोनों बहनों ने बताया कि वे अमेरिका में ही रहती हैं और उनका खुद का बिजनेस भी चल रहा है। उन दोनों ने ट्रेसी को धन्यवाद भी दिया।