उत्तर प्रदेश में एक पचास वर्षीय महिला बारिश के इस मौसम में एक नाले में जा गिरी। नाले के पानी के साथ बहते हुए यमुना नदी में पहुंच गई। इस बीच महिला को एक लकड़ी का बड़ा टुकड़ा हाथ लग गया। सोलह घंटे तक महिला इसी लकड़ी के टुकड़े के सहारे जिन्दगी की जंग लड़ती रही। आखिर में कुछ नाविकों ने यमुना में इस महिला को देखा और उसे बचाया।

महिला जालौन में नाले में गिरी और वहां से बहते हुए हमीरपुर में करीब 25 किलोमीटर दूर पहुंच गई। वहां कुछ नाविकों ने उसे बचाया। इसके बाद में पुलिस ने उसे उसके परिवार से मिलवाया गया। जानकारी के मुताबिक महिला का नाम जयदेवी बताया गया है। जय देवी अपने खेतों में गई थीं, जब वह गलती से जालौन में उफनते नाले में गिर गईं। यहां पानी की धार उसे उसे यमुना नदी में ले गई। यहां वह लकड़ी के ल_े से चिपक गई और 16 घंटे से अधिक समय तक तैरती रही। नाविकों की मदद से महिला को एक अस्पताल में भर्ती कराया गया और उसके बेटे राहुल और बेटी विनीता को सूचित किया गया। पुलिस ने महिला को उसके परिजनों को सौंप दिया।