कोलार जिले में स्थित ताइवान की मैन्यूफैक्चरिंग कंपनी विस्ट्रोन कॉरपोरेशन के नरसपुरा मैन्यूफैक्चरिंग प्लांट में वेतन के मुद्दे को लेकर भड़के कर्मचारियों ने हिंसा, तोड़फोड़ और लूटपाट की थी। उपद्रवी कर्मचारियों ने इमारत, कीमती उपकरणों, मशीनों और कंप्यूटरों को नुकसान पहुंचाया। 

कंपनी विस्ट्रोन कॉरपोरेशन का आरोप है कि उसे कर्नाटक में कोलार जिले में स्थित उसके प्लांट में वेतन मुद्दे को लेकर कुछ कर्मचारियों के उपद्रव की वजह से 437.40 करोड़ रुपये का नुकसान हुआ है। कंपनी एपल के लिए आईफोन और अन्य कंपनियों के लिए आईटी प्रोडक्ट का निर्माण करती है। वेमागल पुलिस थाने में दर्ज कराई गई शिकायत में कंपनी के एक्जीक्यूटिव टीडी प्रशांत ने कहा है कि ऑफिस के उपकरण, मोबाइल फोन, प्रोडक्शन मशीनरी और संबंधित गैजेट को नुकसान हुआ है और इनकी लागत करीब 412.5 करोड़ रुपये है।

इंफ्रास्ट्रक्चर को 10 करोड़, कार और गोल्फ काट्र्स को हुए नुकसान की लागत 60 लाख रुपये है जबकि 1.50 करोड़ की कीमत के स्मार्टफोन और अन्य गैजेट को नुकसान पहुंचा या चोरी हुए। उन्होंने अपनी शिकायत में कहा कि 5000 कांट्रेक्ट मजदूर और करीब 2000 अज्ञात आरोपियों ने प्लांट में उपद्रव किया। पुलिस ने इस मामले में अब तक 149 लोगों को गिरफ्तार किया है जबकि कुछ अन्य लोगों को हिरासत में लिया गया है।