मेघालय विधानसभा नेशनल पीपुल्स पार्टी (एनपीपी) ने भले ही कांग्रेस से कम सीटें लेकर आई, लेकिन अब वह गठबंधन की सरकार बनाने जा रही है। विधानसभा चुनाव में कांग्रेस सबसे बड़े दल के रूप में उभरा, लेकिन मेघालय उसके हाथ से निकल गया। मेघालय के राज्यपाल गंगा प्रसाद ने एनपीपी के अध्यक्ष कोनराड संगमा को छह मार्च को नई सरकार बनाने का रविवार को न्यौता दिया। इससे साफ हो गया है कि कोनराड संगमा ही मेघालय के अगले मुख्यमंत्री होंगे। हालांकि इन सबके बीच मेघालय के सबसे रईस उम्मीदवार एन धर को हार का सामना करना पड़ा है। एन धर एनपीपी के टिकट से उमरोई विधानसभा सीट से चुनाव लड़ रहे थे। वहीं एन. धर के बेटे दसाखियात लमारे और भाई एस. धर ने चुनाव जीत लिया है।


उमरोई विधानसभा सीट पर कांग्रेसी उम्मीदवार जीबी लिंग्दोह ने 1018 वोट से चुनाव जीत लिया है। लिंग्दोह को 10405 तो वहीं एन धर को 9387 वोट मिले हैं। बता दें कि एन धर ने 2013 के विधानसभा चुनाव में उमरोई सीट से जीत दर्ज की थी।  हालांकि उस वक्त उन्होंने कांग्रेस के टिकट पर चुनाव लड़ा था। उस वक्त उन्होंने निर्दलीय उम्मीदवार को 5351 वोट से हराया था। पिछले चुनाव में धर को 9489 तो वहीं निर्दलीय उम्मीदवार को 5351 वोट मिले थे। हालांकि इस बार एन. धर को कांग्रेस का साथ छोडऩा काफी भारी पड़ा और वे एनपीपी के टिकट पर हार गए।


गौरतलब है कि एन. धर मेघालय के सबसे रईस उम्मीदवार थे। धर ने नामांकन पत्र दाखिल करते वक्त अपनी संपत्ति की घोषणा को लेकर जो हलफनामा दिया है उसके मुताबिक उनके पास 144 वाहन हैं। धर के परिवार की कुल संपत्ति करीब 290 करोड़ रुपए है। हालांकि उनके बेटे की संपत्ति इसमें शामिल नहीं है। एन. धर स्कूल ड्रॉप आउट है। उनकी अचल संपत्ति में कृषि भूमि शामिल है जिसकी कीमत 219.04 करोड़ है। धर के पास जो अचल संपत्ति की कीमत करीब 71.23 करोड़ है। 49 साल के पूर्व विधायक एन. धर के पास 144 वाहन हैं, जिनमें बीएमडब्ल्यू और टोयोटो एसयूवी शामिल है। इसके अलावा उनके पास कोयले और बोल्डर के ट्रांसपोर्टेशन के लिए ट्रक भी है। शपथ पत्र के मुताबिक उन पर 3.95 करोड़ का व्हिकल लोन है जो चुकाना है। धर की पत्नी के पास 1.21 करोड़ की अचल संपत्ति है जबकि 3.7 करोड़ की अचल संपत्ति है।


दूसरी तरफ एन धर के 25 साल के बेटे दसाखियात लमारे ने मावहाति से चुनाव जीत लिया। लमारे ने एनपीपी के टिकट पर चुनाव लड़ा और महज 204 वोटों से इस सीट को अपने नाम कर लिया। उन्होंने निर्दलीय उम्मीदवार जेके दोरफांग को हराया। लमारे को 6365 तो वहीं दोरफांग को 6161 वोट मिले। 2013 के विधानसभा चुनाव में दोरफांग ने मावहाति सीट से चुनाव जीता था। उन्होंने निर्दलीय उम्मीदवार डॉनबुक को 1159 वोट से हराया था। बता दें कि लमारे ने 40 करोड़ की कुल संपत्ति घोषित की है। लमारे कंस्ट्रक्शन कंपनी के प्रबंध निदेशक हैं। इसके सह मालिक उनके पिता और भाई हैं। लमारे के पास बीएमडब्ल्यू और टोयोटा एसयूवी है। इसके अलावा 13 अन्य वाहन है। इनमें से ज्यादातर ट्रक हैं। लमारे के पास 36 करोड़ की अचल संपत्ति है जबकि 4 करोड़ की चल संपत्ति है।

वहीं धर के भाई एस. धर ने भी एनपीपी के टिकट पर नारतियांग सीट से चुनाव लड़ा और जीत हासिल की। उन्होंने कांग्रेसी उम्मीदवार जे. लिंग्दोह को 2098 वोट से हराया। एस. धर को 16604 तो वहीं लिंग्दोह को 14502 वोट मिले थे। पिछले विधानसभा चुनाव में एस. धर ने इस सीट पर कांग्रेस के टिकट पर चुनाव लड़ा और जीत हासिल की। उस वक्त उन्होंने निर्दलीय उम्मीदवार हिलारियस दखर को रिकॉर्ड 8858 मतों से हराया था। बता दें कि एस. धर के पास 3.28 करोड़ की संपत्ति है जबकि उनकी पत्नी के पास जो संपत्ति ही उसकी कीमत 1.16 करोड़ है। एस. धर मुकुल संगमा सरकार में मंत्री रह चुके हैं। एन. धर और एस. धर ने चुनाव से पहले कांग्रेस से इस्तीफा दिया और एनपीपी में शामिल हो गए।