इस्लामाबाद। पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ़ (पीटीआई) के अध्यक्ष और पूर्व प्रधानमंत्री इमरान खान ने मंगलवार को कहा कि वह देश भर की सड़कों से अमेरिका को यह संदेश देने के लिए इस्लामाबाद से मार्च करेंगे कि पाकिस्तान एक 'स्वतंत्र देश' है। समाचार पत्र डॉन ने यह रिपोर्ट दी हैं। खान ने पेशावर में पार्टी के सांसदों और अपने समर्थकों को संबोधित करते हुए कहा कि उन्हें हर गांव, गली और मोहल्ले के लोगों को इकट्ठा करने तथा 'सच्ची आजादी' के लिए आंदोलन के लिए तैयारी करे। 

यह भी पढ़े : Akshaya Tritiya 2022: इस दिन सोना खरीदना बेहद शुभ होता है, इन 3 चीजों के दान से चमक सकती है किस्मत, जानिए शुभ मुहूर्त

उन्होंने कहा कि हम सड़कों पर उतरेंगे, इस्लामाबाद तक मार्च करेंगे और अमेरिका को संदेश देंगे कि हम एक स्वतंत्र और सम्मानीय मुल्क हैं, जो कि किसी की कठपुतली नहीं बनेगा। उन्होंने कहा कि पाकिस्तान की स्थापना ला इलाहा इल्लल्लाह (अल्लाह के अलावा कोई भगवान नहीं है) के नारे पर यह कहते हुए कि गई थी कि मुसलमान किसी से नहीं बल्कि अल्लाह से डरता है। उन्होंने दावा किया कि पाकिस्तान में सत्ता परिवर्तन अमेरिका की रणनीति हैं। उन्होंने कहा कि यह 1950 में ईरान और चिली घटनाओं की तरह है। 

यह भी पढ़े : Numerology Horoscope 27 April : इन तारीखों में जन्मे लोगों के लिए 27 अप्रैल को बन रहे है खास योग, मिलेगा भरपूर लाभ

उन्होंने कहा, 'पहले मीडिया आउटलेट्स को पैसा दिया और उन्हें सरकार के खिलाफ किया गया। फिर उन्होंने सत्ता पक्ष के राजनेताओं को खरीदा और बाद में विपक्ष को पैसा दिया।' उन्होंने यह भी कहा कि पार्टी रमजान 27 पर एक शब-ए-दुआ (प्रार्थना के लिए एक शाम) आयोजित करने जा रही है। उन्होंने कहा, 'मैं मौलाना तारिक जमील के साथ रहूंगा और हम हर शहर में स्क्रीन की व्यवस्था करेंगे। हम सभी देश की सुरक्षा, संप्रभुता और स्वतंत्रता के लिए प्रार्थना करेंगे।' उन्होंने दावा कि नवनिर्वाचित प्रधान मंत्री शहबाज शरीफ को एक 'षडय़ंत्र' के जरिए सत्ता में लाया गया है। उन्होंने कहा, 'हम उन्हें बताएंगे कि हम इस आयातित सरकार को स्वीकार नहीं करेंगे।' पूर्व प्रधानमंत्री ने यह भी दावा किया कि शहबाज सरकार संघीय जांच एजेंसी (एफआईए), राष्ट्रीय जवाबदेही ब्यूरो (एनएबी) और संघीय राजस्व बोर्ड (एफबीआर) जैसे देश के संस्थानों को 'कमजोर' कर रही है।