अरुणाचल प्रदेश में जनता दल (युनाइटेड) के छह विधायकों के भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) में शामिल होने के बाद जदयू नेताओं के छलके दर्द पर भाजपा अब मरहम लगाने में जुट गई है। भाजपा की ओर से जदयू के साथ बढ़ रही दरारों को भरने के लिए सोमवार को राज्यसभा के सांसद और नीतीश के पुराने मित्र सुशील कुमार मोदी आगे आए। उन्होंने कहा कि अरुणाचल प्रदेश की घटना का बिहार में कोई प्रभाव नहीं पड़ने वाला है।

नीतीश के साथ उपमुख्यमंत्री के रूप में काफी दिनों तक काम कर चुके मोदी ने अरुण जेटली की जयंती पर आयोजित कार्यक्रम में भाग लेने के बाद पत्रकारों से चर्चा करते हुए कहा कि जदयू के लोगों ने कहा है कि अरुणाचल प्रदेश में जो हुआ उसका असर बिहार के गठबंधन पर नहीं होगा। सुशील मोदी ने भी दावा करते हुए कहा कि बिहार के अंदर भाजपा और जदयू का गठबंधन अटूट हैै। पूरे पांच साल नीतीश जी के नेतृत्व में सरकार यहां काम करेगी।

सुशील मोदी ने जदयू के नए अध्यक्ष आर.सी.पी. सिंह को बधाई देते हुए कहा कि वह सक्षम व्यक्ति हैं। उनसे हमारे अच्छे संबंध हैं। उन्होंने आशा व्यक्त करते हुए कहा कि उनके साथ भाजपा और जदयू का संबंध और बेहतर होगा। इससे पहले रविवार को जदयू कार्यकारिणी समिति की बैठक के बाद जदयू के वरिष्ठ नेता के सी त्यागी ने भी कहा था कि अरूणाचल प्रदेश की घटना का बिहार में कोई प्रभाव नहीं पड़ेेगा।