धनतेरस पर लोहे-स्टील-कांच के बर्तन नहीं खरीदने चाहिए क्योंकि इसके पीछे चौंकाने वजह है। धनतेरस का त्योहार इस बार 13 नवंबर को मनाया जा रहा है। इस दिन खरीदारी को बहुत शुभ माना गया है। ज्यादातर लोग बर्तनों की खरीदारी करते हैं, लेकिन क्या आप जानते हैं इस त्योहार पर कुछ धातुओं को खरीदना बेहद अशुभ होता है।
धनतेरस के दिन लोहे, स्टील या एल्यूमीनियम के बर्तन खरीदने से बचना चाहिए। दरअसल ये सभी चीजें धातु का अशुद्ध रूप होती हैं, इसलिए त्योहार के दिन इन्हें घर नहीं लाना चाहिए।

स्टील, लोहे और एल्यूमीनियम के अलावा कांच या सेरामिक (चीनी) मिट्टी से बना सामान या बर्तन भी ना खरीदें। घर में टूटी या चटकी हुई चीजें भी न लाएं। समृद्धि के प्रतीक के तौर पर आप सोना, चांदी या लक्ष्मी-गणेश की मूर्तियां खरीद सकते हैं।
भगवान धनवंतरी को नारायण भगवान विष्णु का ही एक रूप माना जाता है। इनकी चार भुजाएं हैं, जिनमें से दो भुजाओं में वे शंख और चक्र धारण किए हुए हैं। दूसरी दो भुजाओं में औषधि के साथ वे अमृत कलश लिए हुए हैं। ऐसा माना जाता है कि यह अमृत कलश पीतल का बना हुआ है, क्योंकि पीतल भगवान धनवंतरी की प्रिय धातु है। इसीलिए धनतेरस के दिन पीतल की खरीदारी को ज्यादा फलदायी माना गया है।
धनतेरस के दिन बर्तन खरीदना बहुत शुभ माना जाता है लेकिन बर्तन की खरीदारी के वक्त कुछ सावधानियों को ध्यान में रखना जरूरी है। घर पर खाली बर्तन कभी ना लाएं। इसे घर लाने पर पानी से भर दें। पानी को भाग्य से जोड़कर देखा जाता है। इससे आपके घर में समृद्धि और संपन्नता का वास रहेगा। खाली बर्तन घर लाना अशुभ माना जाता है इसलिए ऐसा करने से बचें।