कोरोना से जूझ रही दुनिया इससे बचने के लिए कई तरह के पुख्ता इंतजाम कर रही है। इसके लिए आर्थिक व्यवस्था को मद्देनजर रखते हुए हर देश मुकम्मल कोशिश कर रहे हैं। साथ ही देश के कई धनी लोग देश की सेवा के लिए आगे आए हैं जो कुछ डोनेट कर देश को कोरोना के खतरे से बचाने के लिए सहयोग कर रहे हैं। इन्हीं के बीच क्रिकेट राजा महेंद्र सिंह धोनी काफी सुर्खियों में आ रखे हैं।

अभी बता दें कि कोरोना के चलते लॉकडाउन लागू है जिससे की  न तो आईपीएल हो रहा और न ही कहीं और क्रिकेट खेला जा रहा है। ऐसे में दिग्गज बल्लेबाज सचिन तेंदुलकर ने देश में कोरोना वायरस से निपटने के लिये 50 लाख रुपये दान किये हैं।  जानकारी दे दें कि भारत के प्रमुख खिलाड़ियों में से यह अब तक सबसे बड़ी दान राशि है। इसी तरह से टीम इंडिया के पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी ने इस जानलेवा वायरस के खिलाफ जारी जंग में पुणे में एक चैरिटी के जरिये एक लाख रुपये दान दिये हैं।

जिससे की धोनी पर जान छिड़कने वाले उनके फैंस ही माही से नाराज हो गए हैं। फैंस का मानना है कि इस संकट की घड़ी में धोनी जैसे बड़े खिलाड़ी को दान में एक बड़ी राशि देनी चाहिए थी लेकिन उन्होंने ऐसा नहीं किया। फैंस के काफी ट्रोल किए जाने पर देखते ही देखते कुछ ही देर में धोनी ऐसे लोगों के गुस्से के कोपभाजन का शिकार हो गए। धोनी की पत्नी साक्षी ने ट्विट किया और लिखा कि मैं सभी मीडिया हाउस से आग्रह करती हूं कि इस संवेदनशील समय में कृपया गलत खबरें ना फैलाएं और आपको शर्म आनी चाहिए।

साक्षी धोनी ने कहा कि दरअसल मामला यह था कि पुणे की एक एनजीओ ने लोगों की मदद के लिए 12.30 लाख रुपये इकट्ठे करने का लक्ष्य बनाया था। जिसमें एक लाख रुपये कम पड़ रहे थे। तो ऐसे में धोनी ने मुकुल माधव फाउंडेशन को लक्ष्य में सहयोग के लिए एक लाख रुपये दिए।