कोरोना Omicron के संक्रमण का सिलसिला पूरी दुनिया में जारी है। भारत में यह भयावह रूप ले चुका है। इस समय पर विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) के टॉप अधिकारी ने कहा है कि भले ही डेल्टा की तुलना में ओमिक्रॉन कम गंभीर है परंतु यह खतरनाक वायरस है।

कोरोना वायरस पर WHO की टेक्निकल लीड मारिया वैन केरखोव ने कहा है कि जो लोग ओमिक्रॉन से संक्रमित हैं, उनमें बीमारी का पूरा स्पेक्ट्रम रहता है। उनको गंभीर रूप से बीमारी हो सकती है और वो मर सकते हैं। वृद्धों एवं जिनका टीकाकरण नहीं हुआ है उनको यह वैरियंट गंभीर नुकसान पहुंचा सकता है।

उन्होंने यह भी कहा कि यह डेल्टा से कम गंभीर है, लेकिन इसका मतलब ये नहीं कि यह नॉर्मल है। उन्होंने कहा कि ओमिक्रॉन सर्कुलेशन के मामले में डेल्टा से आगे निकल गया है। लोगों को यह बहुत आसानी से संक्रमित करने में सक्षम है। हालांकि, इसका मतलब ये नहीं कि सभी लोग ओमिक्रॉन से संक्रमित होंगे।

इस संक्रामक रोग महामारी वैज्ञानिक ने कहा कि पूरी दुनिया में कोरोना मामलों में बढ़ोतरी हेल्थ केयर सिस्टम पर प्रेशर डाल रही है। अब हम इसस महामारी के तीसरे साल में प्रवेश कर रहे हैं। ऐसे में संक्रमित लोगों को उचित केयर की जरूरत है। यदि उचित केयर नहीं मिली तो लोग गंभीर बीमारी और मौत के साथ समाप्त हो जाएंगे।