यह पहला मौका नहीं है जब मांझी ने विवादित बयान दिया हो। इससे पहले भी वो इस तरह के बयानों को लेकर चर्चा में रहे हैं। हिंदुस्तान आवाम मोर्चा (हम) सुप्रीमो मांझी का भगवान राम, हिन्दू धर्म और ब्राह्मणों पर बयान देते रहे हैं।

यह भी पढ़े : युजवेंद्र चहल की पत्नी धनश्री को बिहू डांस सिखाते नज़र आए असमिया क्रिकेटर रियान पराग, वीडियो शेयर किया


बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री और हिंदुस्तान आवाम मोर्चा (हम) सुप्रीमो जीतनराम मांझी का एक विवादित बयान फिर से सुर्खियों में हैं। बता दें कि शुक्रवार को मांझी ने जमुई जिले के सिकंदरा ब्लॉक क्षेत्र में मनाए जा रहे अंबेडकर की जयंती और माता शबरी महोत्सव समारोह के मौके पर यह टिप्पणी की। उन्होंने भगवान श्रीराम को काल्पनिक बताया। उन्होंने कहा कि राम केवल तुलसीदास और वाल्मीकि रामायण के पात्र थे। मांझी ने कहा कि राम कोई भगवान नहीं थे।

यह भी पढ़े : Hanskhali rape-murder: बीजेपी ने कहा, माफी मांगे ममता बनर्जी , पश्चिम बंगाल में लगे राष्ट्रपति शासन


इसके आगे मांझी ने कहा कि रामायण में कई ऐसी बातें हैं जिन्हें हम मानते हैं लेकिन राम को नहीं जानते। उन्होंने अनुसूचित जाति को पूजा पाठ करने से मना किया और कहा कि पूजा करने से कोई बड़ा नहीं हो जाता। अनुसूचित समाज को पूजा करना बंद कर देना चाहिए। उन्होंने मांस खाने वाले और शराब पीने वाले ब्राह्मणों से दूर रहने की सलाह दी। मांझी ने कहा कि जो ब्राह्मण झूठ बोलते हैं, उनसे दूर रहना चाहिए।

मांझी ने कहा कि राम ने शबरी के जूठे बेर खाये थे लेकिन आज हम लोगों के यहां कोई खाना खाकर दिखाए। मांझी ने लोगों को संबोधित करते हुए कहा कि सवर्ण और उच्च जाति के लोग भारत के मूल निवासी नहीं बल्कि बाहरी हैं। बता दें कि मांझी खुद को माता सबरी का वंशज बताते हैं। लेकिन साथ ही राम को भगवान नहीं मानते।

यह भी पढ़े : आप ने हार्दिक पटेल को दिया खुला आमंत्रण, कहा- 'कांग्रेस में समय क्यों बर्बाद कर रहे हो


बता दें कि यह पहला मौका नहीं है जब मांझी ने विवादित बयान दिया हो। इससे पहले भी वो इस तरह के बयानों को लेकर चर्चा में रहे हैं। हिंदुस्तान आवाम मोर्चा (हम) सुप्रीमो मांझी का भगवान राम, हिन्दू धर्म और ब्राह्मणों पर बयान देते रहे हैं। बता दें कि मांझी को बिहार की राजनीति में महादलित समाज का सबसे बड़ा चेहरा माना जाता हैं।