विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) ने अमीर देशों से कहा है कि वे सितंबर के अंत तक कोविड -19 के खिलाफ बूस्टर टीकों को रोक दें, ताकि गरीब देशों को खुराक मिल सके। डब्ल्यूएचओ के प्रमुख डॉ टेड्रोस एडनॉम गेब्रियेसस ने कहा, यहां तक कि लाखों लोग अभी भी अपनी पहली खुराक की प्रतीक्षा कर रहे हैं, कुछ अमीर देश बूस्टर खुराक की ओर बढ़ रहे हैं। विश्व स्तर पर, अब तक 4 अरब से अधिक वैक्सीन खुराक दी जा चुकी हैं।

इनमें से, 80 प्रतिशत अधिक उच्च और उच्च-मध्यम आय वाले देशों में लगाए गए हैं, जो दुनिया की आधी से भी कम आबादी के लिए जिम्मेदार है। उन्होंने कहा, दूसरी ओर, कम आय वाले देश आपूर्ति की कमी के कारण प्रति 100 लोगों के लिए केवल 1.5 खुराक का प्रबंध करने में सक्षम हैं। जबकि सरकारें डेल्टा वेरिएंट में वृद्धि के बारे में चिंतित हैं और इसलिए अतिरिक्त शॉट्स के साथ अपने नागरिकों की रक्षा करना चाहती हैं। दूसरी ओर दुनिया के सबसे कमजोर लोग असुरक्षित हैं।

गेब्रियेसस ने कहा, हम उन देशों को स्वीकार नहीं कर सकते हैं जो पहले से ही टीकों की वैश्विक आपूर्ति का अधिक उपयोग कर चुके हैं। मई के अंत में, गेब्रियेसस ने ‘सितंबर तक स्प्रिंट’ के लिए वैश्विक समर्थन का आह्वान किया था, ताकि हर देश सितंबर के अंत तक अपनी आबादी का कम से कम 10 प्रतिशत टीकाकरण कर सके। उन्होंने कहा, ‘‘डब्ल्यूएचओ कम से कम सितंबर के अंत तक बूस्टर पर रोक लगाने का आह्वान कर रहा है, ताकि हर देश की कम से कम 10 प्रतिशत आबादी को टीका लगाया जा सके।’’ डेमोक्रेटिक रिपब्लिक ऑफ कांगो सहित अफ्रीका के कई देशों को वैक्सीन की खुराक नहीं मिली है। इस बीच, इजराइल, फ्रांस और रूस ने पहले ही तीसरी खुराक शुरू कर दी है, जर्मनी और यूके ने जल्द ही इसे लगाने की योजना की घोषणा की है।