कोरोना वायरस से जान बचाने वाली दवाई कामयाब रही है जिसके शुरूआती नतीजों को लेकर WHO ने बड़ी बात कही है। इस दवाई का नाम डेक्सामेथासोन है जिसके नतीजे का विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने स्वागत किया है। ब्रिटेन की ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी की ओर से डेक्सामेथासोन दवा का करीब 2000 मरीजों पर ट्रायल किया गया था। ट्रायल में पता चला कि ये दवा कई मरीजों की जान बचाने में कामयाब रही है।


रिसर्चर्स के मुताबिक डेक्सामेथासोन पहली ऐसी दवाई है जो कोरोना मरीजों की जान बचाने में कामयाब हो रही है। ब्रिटेन की सरकार ने डेक्सामेथासोन दवा से कोरोना मरीजों के इलाज को मंजूरी दे दी है। यह एक पुरानी और सस्ती दवा है। इसको लेकर लीड रिसर्चर प्रो. मार्टिन लैंड्रे ने कहा कि जहां भी उचित हो, अब बिना किसी देरी के हॉस्पिटल में भर्ती मरीजों को ये दवा दी जानी चाहिए। लेकिन लोगों को खुद ये दवा खरीदकर नहीं खाना चाहिए।
डेक्सामेथासोन दवा से खासकर वेंटिलेटर और ऑक्सीजन सपोर्ट पर रहने वाले लोगों को फायदा हो रहा है। हालांकि, हल्के लक्षण वाले मरीजों में इस दवा से लाभ की पुष्टि नहीं हुई है। माना जा रहा है कि ब्रिटेन में ये दवा पहले से उपलब्ध होती तो कोरोना से 5000 लोगों की जान बचाई जा सकती थी, क्योंकि ये दवा सस्ती भी है।